Top

6 फिट गहरे गड्ढे में दफन दो सगे भाईयों के शवों को पुलिस ने खाली प्लाट से किया बरामद

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 9 Sep 2018 4:48 AM GMT

6 फिट गहरे गड्ढे में दफन दो सगे भाईयों के शवों को पुलिस ने खाली प्लाट से किया बरामद
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: बीते शुक्रवार को मिली रक्त रंजित कार पुलिस के लिए मिस्ट्री बनी हुई थी। कार के अन्दर चारो तरफ खून और मांस के टुकड़े मिले थे। इसके साथ कार के अन्दर से 42 सिमकार्ड ,पैनड्राइव ,लेपटॉप और आधार कार्ड और आईडी कार्ड बरामद हुआ था। पुलिस, फारेंसिक टीम डॉग स्क्वायड ने घटना स्थल का निरिक्षण किया था।

यह भी पढ़ें: पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार इजाफा जारी, जनता परेशान

जाँच में डॉग स्क्वायड ने खाली प्लाट में बॉडी होने का इशारा किया था। पुलिस ने शुक्रवार को प्लाट में एक स्थान पर खुदाई करायी थी लगभग 3 फिट खुदाई कराने पर कुछ नही मिला तो पुलिस ने गड्ढा भर दिया। शनिवार शाम को पुलिस ने दोबारा जाँच की तो उसे शक हुआ बॉडी इसी प्लाट में है। पुलिस ने दोबारा खुदाई करायी तो लगभग 6 फिट गहरा गड्ढा खोदने पर कार मालिक दोनों सगे भाइयो के शव मिल गए।

यह भी पढ़ें: SC को लेकर BJP विधायक का विवादित बयान, कहा- राम मंदिर बनकर रहेगा क्योंकि सुप्रीम कोर्ट हमारा है

काकादेव थाना क्षेत्र स्थित ओम चौराहे पर रहने वाले मोनू सिंह और प्रिंस दोनों सगे भाई है और मोबाइल शॉप है। दोनों भाई सिम एक्टिवेट करने का भी काम करते है। जानकारी के मुताबिक बीते गुरुवार की रात लगभग साढ़े दस बजे घर से निकला था। मोनू ने माँ जसवंत कौर से एक घंटे बाद लौटने की बात कह कर निकला था लेकिन दोनों भाई पूरी रात जब घर लौट कर वापस नही आय तो माँ जसवंत कौर ने उन्हें फोन लगाया तो दोनों भाइयो के मोबाइल स्विच ऑफ़ थे।

काकादेव स्थित स्वराज इण्डिया स्कूल के पास वैगन आर खड़ी थी जिसमे खून के धब्बे लगे हुए थे । सुबह के वक्त जब स्थानीय लोगो ने कार के अन्दर झांक कर देखा तो पूरी कार में खून फैला पड़ा था। कार के अन्दर मांस के टुकड़े ड्राइविंग सीट से खून बह कर बाहर निकला था।

स्थानीय लोगो की सूचना पर पहुची पुलिस ने जाँच शुरू की फारेंसिक टीम और डॉग स्क्वायड की टीम मौके पर पहुची । जिस स्थान पर कार खड़ी थी वहा से कुछ दूरी पर एक खाली प्लाट पड़ा हुआ था। डॉग स्क्वायड का खोजी कुत्ता उस खाली प्लाट में पंहुचा और झाड़ियो में मिटटी में बॉडी दबी होने का इशारा भी किया। पुलिस ने उस स्थान पर खुदाई भी करायी लेकिन जब लगभग 3 फिट तक खुदाई कराने पर जब कुछ नहीं मिला तो पुलिस ने दोबारा मिटटी भर कर बराबर कर दिया।

पुलिस ने कार के नंबर के आधार पर उसके मालिक का पता निकाला। जब पुलिस उस पते पर पहुची तो पुलिस को जानकारी मिली कि कार मालिक मोनू सिंह और उसका छोटा भाई प्रिंस गुरुवार रात से लापता है और पूरी रात घर वापस नही लौटे है।

शनिवार की शाम पुलिस दोबारा जाँच करने के लिए पहुची तो उनकी जाँच के अनुसार खाली प्लाट पर ही बॉडी होने का अंदेशा मिला। पुलिस ने उसी स्थान पर दोबारा खुदाई करायी। लगभग 6 फिट तक खुदाई कराने के बाद दोनों सगे भाइयो की बॉडी को पुलिस ने बरामद कर पाई। पुलिस के लिए दोनों सगे भाइयो की हत्या अभी भी मिस्ट्री बनी हुयी है। आखिर इनकी हत्या किसने और क्यों की।

एसपी वेस्ट संजीव सुमन के मुताबिक शुक्रवार भोर के वक्त हमें सुचना मिली थी कि एक रक्त रंजित कार लावारिश खड़ी है । कार के अन्दर खून फैला पड़ा था मांस के टुकड़े पड़े थे जो किसी संगीन अपराध की तरफ इशारा कर रहे थे । फारेंसिक टीम और डॉग स्क्वायड ने भी निरिक्षण किया था । पास के खाली प्लाट पर बॉडी होने का शक था।

कल इसकी खुदाई भी करायी गयी थी लेकिन खुदाई करने वालो ने कहा यहाँ कुछ नही है । इस लिए वहा मिटटी भर कर बराबर कर दिया गया था। शनिवार को जाँच टीम को शक हुआ तो दोबारा खुदाई कराई गई तो दोनों भाइयो के शव बरामद हो गए। दोनों भाई मिसिंग थे इसके साथ ही कार के अन्दर से एक आधार कार्ड मिला जो दिल्ली की किसी लड़की का था उसकी जाँच की गयी तो उसका इनसे कोई संबंध नहीं था। फ़िलहाल इस घटना की जाँच और भी गहनता से की जा रही है।

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story