Top

ठगों का स्पेशल गैंग: फर्जी अधिकारी बन दुकानों से करते थे वसूली, चार गिरफ्तार

कोरोना काल में दवाई की दुकानों से ठगी करने वाला एक गैंग एनसीआर में सक्रिय था, जिसको गाजियाबाद पुलिस ने पकड़ लिया है।

Bobby Goswami

Bobby GoswamiReporter Bobby GoswamiAshiki PatelPublished By Ashiki Patel

Published on 18 May 2021 11:36 AM GMT

Ghaziabad Police
X

ठगों का स्पेशल गैंग गिरफ्तार (Photo-Social Medial)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गाज़ियाबाद: कोरोना काल में दवाई की दुकानों से ठगी करने वाला एक गैंग एनसीआर में सक्रिय था, जिसको गाजियाबाद में लोनी पुलिस ने पकड़ लिया है। इस गैंग के चार सदस्य पुलिस ने गिरफ्तार किए हैं। जिनमें 2 महिलाएं भी शामिल हैं। इस गैंग का टारगेट मुख्य रूप से केमिस्ट शॉप हुआ करती थी। गैंग की दो महिलाएं और दोनों पुरुष फर्जी अधिकारी बनकर दवाई की दुकानों पर जाया करते थे। यहां से किसी दवाई का सैंपल लेकर दुकानदार को कहते थे कि ये दवाई नकली है। लिहाज़ा दुकानदार पर कार्रवाई होगी। जब दुकानदार डर जाता था, तो ये उससे मोटी रकम वसूल लिया करते थे।

कल भी इस गैंग ने लोनी में एक दवाई की दुकान पर इसी तरह से ब्लैक मेलिंग करने की कोशिश की थी। मगर शक होने पर दुकानदार ने पुलिस को सूचना दे दी।इसके बाद आरोपियों की गिरफ्तारी हो पाई। चारों आरोपी काफी पढ़े लिखे हैं। दोनों महिलाएं काफी हाईप्रोफाइल हैं। जिससे इन पर शक नहीं होता था।पुलिस अब इनका अपराधिक रिकॉर्ड खंगालने में जुटी हुई है।

कभी फूड सेफ्टी ऑफिसर, तो कभी ड्रग इंस्पेक्टर

पुलिस ने आरोपियों के बारे में दिल्ली पुलिस को भी जानकारी दी है। फिलहाल की जानकारी से यही पता चला है कि कई अन्य जगहों पर भी इन्होंने इसी तरह की वारदात अंजाम देकर, दवाई की दुकानदारों के अलावा अन्य दुकानदारों से भी ब्लैक मेलिंग की है। जब यह किसी हलवाई की दुकान पर जाते थे तो खुद को फूड सेफ्टी ऑफिसर बताते थे और इसी तरह से जब दवाई की दुकान पर जाते, तो खुद को ड्रग इंस्पेक्टर और ऑफिसर बताते थे। इनके बारे में पहले भी कई शिकायतें अलग-अलग डिपार्टमेंट के माध्यम से मिल चुकी थी, लेकिन पहली बार यह गैंग रंगे हाथ पकड़ा गया है। इस गैंग के अन्य सदस्यों को भी पुलिस जल्द पकड़ सकती है। पूछताछ में ही पता चल पाएगा कि अब तक कौन-कौन से दुकानदार इनका शिकार हुए हैं।

Ashiki

Ashiki

Next Story