Top

सहारनपुर घटना को लेकर सख्त एडीजी, भीम सेना और सांसद का भाई निशाने पर

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 10 Jun 2017 1:18 PM GMT

सहारनपुर घटना को लेकर सख्त एडीजी, भीम सेना और सांसद का भाई निशाने पर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सहारनपुर : सड़क दूधली एवं शब्बीरपुर प्रकरण को लेकर राजधानी लखनऊ में बैठे अधिकारी भी चैन नहीं ले पा रहे हैं। एडीजी लॉ एंड आॅर्डर आदित्य मिश्रा ने एक बार फिर सहारनपुर का रूख किया। आईटीसी गेस्ट हाऊस में पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों से मिलकर प्रगति रिपोर्ट जांची और साथ ही जनपद में जातीय हिंसा की पुनरावृत्ति ना हो पाये, इस पर भी चर्चा हुई।

एडीजी शनिवार को सहारनपुर पहुंचे थे। उन्होंने सहारनपुर में जातीय विद्वेष फैलाने के आरोपियों पर सख्त कार्रवाई के संकेत दिए है। शब्बीरपुर प्रकरण को लेकर पिछले दिनों हुई हिंसा में जहां भीम आर्मी पुलिस के टारगेट पर है। वहीं सड़क दूधली प्रकरण में सांसद खेमे पर भी पुलिस की नजरें टिकी हुई है। भीम आर्मी संस्थापक चंद्रशेखर सहित हिंसा के आरोपी उसके कुछ साथी अब सलाखों के पीछे है, तो वहीं पुलिस हाल ही में सड़क दूधली प्रकरण के आरोपी सांसद के भाई राहुल लखनपाल शर्मा सहित आठ के खिलाफ एनबीडब्लू ले चुकी है।

भीम आर्मी पर तो पुलिसिया कार्रवाई लगातार चल रही है, अब पुलिस का ध्यान सांसद खेमे की तरफ भी है। सूत्र बताते है कि एडीजी का दौरा भी खासतौर पर इसे ध्यान में रखते हुए हुआ है। सूत्रों के मुताबिक आईटीसी गेस्ट हाऊस में अधिकारियों से रूबरू होते हुए एडीजी ने साफ किया कि अब सहारनपुर में जातीय हिंसा की पुनरावृत्ति न होने पाये, इसके लिए चाहे जितनी भी सख्ती बरतनी पड़े, बरते।

आवश्यक दिशा निर्देश देने के बाद कुछ समय गेस्ट हाऊस में रूक एडीजी लॉ एंड आॅर्डर वापिस लौट गये। इस दौरान कमीश्नर दीपक अग्रवाल, डीएम प्रमोद पांडे, डीआईजी के.एस.ईमैनुअल, सहारनपुर के एसएसपी बबलू कुमार के अलावा मुजफ्फरनगर के एसएसपी अनंत देव व शामली एसएसपी अजयपाल भी मौजूद रहे।

17 दिन बाद जिंदगी की जंग हार गया प्रदीप

शब्बीरपुर प्रकरण को लेकर हिंसा से उपजे बवाल को ठंडा करने के प्रशासन के प्रयासों को बार-बार पलिता लग रहा है। जनता रोड पर 17 दिन पूर्व अज्ञात हमलावरों की गोली का शिकार बने राजपूत बिरादरी के युवक ने पीजीआई चंडीगढ़ में दम तोड़ दिया। युवक की मौत के बाद एक बार फिर जनपद का माहौल गर्मा गया है और अधिकारियों को पसीने आने शुरू हो गये है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story