Top

चुनावी रंजिश में खूनी संघर्ष: दो पक्षों में जमकर चले लाठी-डंडे, कई घायल, दो की हालत गंभीर

Amethi Crime news: चुनावी रंजिश में दो पक्षो में जम कर मार पीट हो गई, जिसमें दोनों पक्षो से एक दर्जन लोग घायल हो गए।

Surya Bhan Dwivedi

Surya Bhan DwivediReporter Surya Bhan DwivediAshiki PatelPublished By Ashiki Patel

Published on 3 Jun 2021 4:00 PM GMT

fight between two groups
X

कांसेप्ट इमेज (सौ. सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अमेठी: चुनावी रंजिश में दो पक्षों में जमकर मारपीट हो गई, जिसमें दोनों पक्षो से एक दर्जन लोग घायल हो गए। इस घटना में दो की हालत गंभीर बताई जा रही है। घायलों इलाज अमेठी सीएचसी में चल रहा है। वहीं पुलिस को अभी तहरीर नहीं मिली है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार थाना कोतवाली के घाघूघार किठावर रोड पर शिव शंकर तिवारी की चाय की दुकान पर मामूली विवाद को लेकर गांव के विवेक मिश्र से कहा सुनी होने लगी। विवाद इतना बढ़ा की मारपीट दोनो में होने लगी। हल्ला गोहार सुनने दोनो पक्षों की लोग आ धमके और एक दूसरे से जम कर लाठी डंडे से मारपीट हुई।

इसमें एक पक्ष से सौरभ, शिव शंकर, उत्तम, सोनू और दूसरे पक्ष से विवेक, अशोक, अमन, सहित आधा दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए। घायलों को इलाज हेतु अमेठी सी एच सी लाया गया जहां दो तीन लोगों की हालत गंभीर देख चिकित्सकों ने प्राथमिक इलाज कर जिला चिकित्सालय के लिए रिफर कर दिया। घटना में अशोक, उत्तम, विवेक की हालत गंभीर बताई जा रही है।

राजनीतिक विरोध बना झगड़ा का जड़

बताना मुनासिब होगा कि सौरभ तिवारी और अशोक मिश्रा की राजनीतिक प्रतिद्वंदिता पहले से चल रही थी। इसके पहले भी कई बार दोनो पक्ष आमने सामने हो चुके थे। इसके पूर्व सौरभ तिवारी की मां ग्राम प्रधान थी जिसमें अशोक मिश्रा चुनाव हार गए थे। इस बार आरक्षण के चलते सीट बैकवर्ड हो गई जिसमें दोनों बच्चों ने अपने अपने बैकवर्ड कैंडिडेट को सपोर्ट किया। इस बार अशोक मिश्रा के पक्ष का कैंडिडेट बाजी मारकर चुनाव जीत गया। राजनीतिक प्रतिद्वंदिता आज मारपीट में परिवर्तित हो गई, जिसमें आधा दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए।

Ashiki

Ashiki

Next Story