Top

Budaun Crime News: करंट लगने से शिक्षक की दर्दनाक मौत, बिजली विभाग पर लापरवाही का आरोप

Budaun Crime News: परिजनों ने बिजली विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाया है कि अंडर ग्राउंड बिजली की केबिल खराब होने की वजह से बिजली विभाग ने ऊपर से तार डाल रखा है।

Arvind

ArvindWritten By ArvindPallavi SrivastavaPublished By Pallavi Srivastava

Published on 16 July 2021 3:24 AM GMT

currunt death
X

करंट लगने से शिक्षक की मौत (कॉन्सेप्ट फोटो- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Budaun Crime News: उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में गुरुवार सुबह बिजली का करंट लगने से शिक्षक की मौत हो गई। शिक्षक के परिजनों ने बिजली विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाया है। बदायूं शहर के विज्ञानन्द इंटर कॉलेज में शिक्षक थे हरिनंदन सिंह।

दरअसल सदर कोतवाली के शेखपट्टी के रहने वाले शिक्षक हरिनंदन सिंह गुरुवार को अपने घर से बाहर निकले थे। इसी दौरान ऊपर से बिजली का तार टूट कर गिर गया। जिससे शिक्षक हरिनंदन गंभीर रूप से झुलस गए। आनन-फानन में शिक्षक को घरवाले जिला अस्पताल लेकर पहुंचे जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। परिवार वालों के मुताबिक अंडर ग्राउंड बिजली की केबिल खराब होने की वजह से बिजली विभाग ने ऊपर से तार डाल रखा है।

करंट से शिक्षक की मौत से पूरे इलाके में सनसनी फैल गयी है। अगल बगल के लोग घर से निकलने से डर रहे हैं कि कहीं बिजली का तार उनके ऊपर न गिर जाए। वहीं शिक्षक की मौत से घर में कोहराम मचा है। सदर कोतवाली के शेखपट्टी की घटना है। बदायूं शहर के विज्ञानन्द इंटर कॉलेज में शिक्षक थे हरिनंदन सिंह।

अस्पताल के बाहर मृतक के परिजन pic(social media)

बिजली विभाग पर लापरवाही का आरोप

वहीं परिजनों ने बिजली विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाया है। परिजनों का आरोप है कि अंडर ग्राउंड बिजली की केबिल खराब होने की वजह से बिजली विभाग ने ऊपर से तार डाल रखा है। आज सुबह जब शिक्षक हरिनंदन सिंह अपने घर से बाहर निकले वैसे ही उनके ऊपर तार टूट कर गिर गया। जिससे उनकी मौत हो गई। फिलहाल परिजनों ने पूरे मामले की शिकायत पुलिस से की है। और शव का पोस्टमार्टम कराया है।

Pallavi Srivastava

Pallavi Srivastava

Next Story