Top

2020 तक प्रमोटर कंपनी को निवेशकों को देना है कब्‍जा, 8 साल पहले रखी गई थी नींव

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 7 Oct 2018 12:49 PM GMT

2020 तक प्रमोटर कंपनी को निवेशकों को देना है कब्‍जा, 8 साल पहले रखी गई थी नींव
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा: सेक्टर-94 में कैपिटल सिटी बीपीटीपी बिल्डिंग का निर्माण एक नवंबर 2010 को शुरू किया गया। बिल्डिंग प्रमोटर ने दावा किया था कि 2013 तक यहा आफिसों का निर्माण पूरा कर कब्जा दे दिया जाएगा। लेकिन ऐसा हुआ नहीं। गिरते रियल स्टेट कारोबार व सरकारी फरमानों की आहट यहा तक पहुंची। बिल्डिंग का निर्माण कार्य बंद कर दिया गया। करीब तीन से चार सालो तक बिल्डिंग का स्ट्रक्चर बिना किसी बचाव के खड़ा रहा। इसके बाद 1 जनवरी 2017 को इसका निर्माण दोबारा शुरू किया गया। उस दौरान पजेशन की तरीख 30 जून 2020 तय की गई। यानी दो साल तक बिल्डिंग निर्माण का तेजी से काम किया गया।

ऐसे हुआ हादसा

रविवार को यहा निर्माण कार्य किया जा रहा था। मजदूर 19 वें फ्लोर की शटरिंग लगाने का काम कर रहे थे। सुबह करीब 10.45 पर मिनट पर शटरिंग का एक हिस्सा टूट कर गिर गया। इसके बाद भरभरा कर पूरी शटरिंग काम कर रहे मजदूरों पर गिर गई। ऐसे में करीब 9 मजदूर इसके नीचे दब गए। चार की मौत हो गई। परिजनों ने आरोप लगाया कि यह हादसा बिल्डर की लापरवाही से हुआ। मलबे में दबे मजदूरों ने किसी प्रकार के सुरक्षा के उपकरण नहीं पहने थे। जबकि नियमत: निर्माण कार्य कर रहे मजदूरों को हेलमेट के साथ कई अन्य उपकरण पहनने पड़ते है। शटरिंग लगाने के दौरान एक्सपर्ट भी मौजूद नहीं था।

बताते चलें कि वर्ष 2010 में बिल्डिंग का निर्माण शुरू किया गया। 2013 में एनजीटी के आदेश के तहत ओखला पक्षी विहार के आसपास के 54 परियोजनाओं का काम बंद कर दिया गया। इसमें एक परियोजना कैपिटल सिटी भी रही। सालों तक काम बंद पड़ा रहा। निर्माण पर पानी, धूप का खेल चलता रहा। इसके बाद बिना किसी निरीक्षण के दोबारा से 2017 में काम शुरु किया गया।

बिल्डिंग का निर्माण 9075 वर्गमीटर क्षेत्रफल में किया जा रहा है। प्राधिकरण द्वारा इसे संस्थागत की श्रेणी में रखा गया है। बिल्डिंग में कुल 57 फ्लोर बनाए जाने हैं। पहले चरण में 15 फ्लोर तक का काम पूरा किया जाना था। ऐसे में उन व्‍यवसाइयों की सांसे थम गई हैं। जिन्होंने बिल्डिंग में अपने आफिस बुक कराए हैं।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story