Top

योगी जी! 'उड़ता सहारनपुर' के लिए तैयार रहिए, खुलेआम बिक रहा ड्रग्स

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 18 Sep 2018 12:20 PM GMT

योगी जी! उड़ता सहारनपुर के लिए तैयार रहिए, खुलेआम बिक रहा ड्रग्स
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सहारनपुर : उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जनपद के पर्वतीय क्षेत्र इन दिनों ड्रग्स तस्करों का गढ़ बनते जा रहा हैं। तस्करों द्वारा ऐसे कोडवर्ड तैयार किए गए हैं जो आम आदमी की समझ से परे होते हैं। जनपद के थाना मिर्जापुर क्षेत्र में ऐसा कोई नशीला पदार्थ नहीं है, जिसका क्रय-विक्रय या तस्करी ना होती हो।

उल्लेखनीय है कि थाना मिर्जापुर क्षेत्र पहले से ही गौ तस्करी गोकशी, सट्टा, शराब आदि के लिए विख्यात था। अब नए नशे का चलन बढ़ा है, जिसके चलते शराब, चरस, गांजा, डोडा पोस्त, स्मैक आदि का कारोबार धड़ल्ले से बेरोकटोक किया जा रहा है। नशीले पदार्थ के क्रय विक्रय और तस्करी से तस्करों को लाखों का फायदा हो रहा है। वह भी एक ही दिन में। इतने मोटे फायदे के लिए अब तस्करों की संख्या भी धीरे-धीरे बढ़ रही है।

जानिए रेट लिस्ट और उनके कोड

तस्करों ने अपने हिसाब से नशीले पदार्थ की कोड बनाया हुआ है। जैसे पावर कट, चिट्ठा, मुठा, बत्ती, हाथों मल, क्रीम आदि। रेट प्रति किलो मुठा 20,000 रुपये से 25,000 रुपये, चरस 8000 रु से 10000 रुपये, क्रीम 35000 रु से 40 हजार रुपये, बत्ती 12000 रुपये, हाथों मल 40000 रुपये/किलो आदि।

पावर, कट, स्मेक, चिट्ठा, रेट प्रति ग्राम : पावर 400 रुपये ग्राम, कट 150 रुपये प्रति ग्राम। स्मैक स्मेक 1800 प्रति ग्राम से 5000 प्रति ग्राम,चिट्ठा::8000 रु/ग्राम।

नशीले पदार्थों की तस्करी हिमाचल प्रदेश, हरियाणा व राजस्थान आदि प्रदेशों से की जाती है। इन में बत्ती मुठा वह हाथों मल उत्तर प्रदेश में ही मिल जाता है। जबकि नेपाल व हिमाचल प्रदेश से चरस तथा राजस्थान से क्रीम आदि का कारोबार किया जाता है।

तस्करी करने वालों के हाथ भी लंबे हो गए हैं। उनकी पकड़ अधिकारियों से लेकर नेताओं तक है। इसी से उनका गोरखधंधा बड़ी आसानी से चल जाता है।

थाना अध्यक्ष मिर्जापुर योगेश शर्मा ने कहा कि नशीले पदार्थों की तस्करी किसी भी सूरत में नहीं होने दी जाएगी। तस्करों के खिलाफ अभियान चलाकर उन्हें सलाखों के पीछे भेजा जाएगा।

श्रावस्ती मे सवा दो किलो चरस और एक देसी तमंचे के साथ दो गिरफ्तार

सुइयां बॉर्डर सीमा पर तैनात एसएसबी जवानों ने नेपाल से चरस व अवैध कट्टा के साथ पुलिस कर्मी को गिरफ्तार करने में सफलता पाई है। आरोपी सिपाही व साथी पर मामला दर्ज कर लिया गया है।

एसएसबी निरीक्षक रंजीत कुमार ने नेपाल सीमा पर गश्त करते समय दो लोगों को संदिग्ध हालत में देखा। दोनों को रोक कर तलाशी ली गई तो मोटरसाइकिल की डिग्गी से सवा दो किलो चरस व एक देशी कट्टा बरामद हुआ। पकड़े गए लोगों की पहचान मल्हीपुर थाने में तैनात पुलिसकर्मी अरुण कुमार और भिनगा तहसील में होटल का व्यवसाय करने वाले गोविंद के रूप में हुई है। दोनों पर मामला दर्ज कर पूछताछ की जा रही है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story