Top

हॉस्पिटल सील होने के बाद सरकारी डॉक्टर को नौकरी देने का दावा ठोक रहा मालिक

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 6 Jan 2018 4:28 PM GMT

हॉस्पिटल सील होने के बाद सरकारी डॉक्टर को नौकरी देने का दावा ठोक रहा मालिक
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : खबर पढ़ने से पहले जरा इसे पढ़ लें! मेरा नाम राजकिशोर है और मैं साईं हॉस्पीटल का मालिक बोल रहा हूं। मैं लिखकर दे रहा हूं कि मेरे अस्पताल में सरकारी डॉ अजीत को नौकरी पर रखा हूं। उन्नाव में तैनात यह चिकित्सक रोजाना मेरे निजी अस्पताल में मरीजों को देखता है तथा इसको मैं एक महीने का 30 हजार रुपया मेहनताना देता हूं।

आपको कुछ-कुछ मामला समझ में आ ही गया होगा। फिलहाल अब हम आपको बताते हैं पूरा मामला...

आपने जो कुछ भी ऊपर पढ़ा वो महज अल्फाज नहीं है बल्कि यूपी का सच है। ये उस व्यक्ति की जुबानी है। जिसका अस्पताल 6 जनवरी की शाम को सील हुआ है। हम बात कर रहे हैं साईं हॉस्पिटल की जिसे बिना पंजीकरण के चलते पाया गया और उसे सील किया गया है

यह हॉस्पिटल मोहनलालगंज में धड़ल्ले से चल रहा था। शिकायत पर पहुंची सीएमओ की टीम ने बिना पंजीकरण के चल रहे साईं हॉस्पिटल को सील किया है। हॉस्पिटल के मालिक राजकिशोर ने एसीएमओ को लिखकर दिया है कि उनके यहां सरकारी डॉक्टर काम करता है और उसको महीने की सैलरी भी देते हैं।

ये भी देखें :Ambulance में तड़पती रही प्रसूता, मंत्री का काफिला गुजरा तो मिली हास्पिटल में इंट्री

कैसे हुआ सील

सूचना मिलने पर एसीएमओ डॉ एसके रावत और डॉ राजेंद्र चौधरी शाम 6 बजे साईं हॉस्पिटल पहुंचे। मौके पर परिसर में कोई भी चिकित्सक नहीं था। केवल एक वॉर्ड ब्वाय और 4 मरीज हॉस्पिटल में थे। जरूरी निरीक्षण के बाद दो मरीजों को डिस्चार्ज किया गया और दो मरीजों को सरकारी अस्पतालों में शिफ्ट किया गया।

डॉ एसके रावत, एसीएमओ ने बताया हॉस्पिटल सील करने के बाद अस्पताल के मालिक ने लिखकर दिया है कि उसके यहां सरकारी चिकित्सक काम करता है। यह अस्पताल सीएमओ कार्यालय में बिना रजिस्ट्रेशन के चल रहा था। सूचना मिलने पर हम लोग पहुंचे और निरीक्षण में अस्पताल प्रशासन ने पंजीकरण संबंधित कोई भी कागजात नहीं दिखा सके। अस्पताल को सील कर दिया गया है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story