इन सवालों में अब भी उलझा है बुराड़ी केस, जानें क्या है पूरी गुत्थी

नई दिल्ली :  दिल्ली के बुराड़ी के संतनगर में रविवार को हुए एक खुदकुशी के मामले ने सभी को हैरान कर दिया। लोग हैरान होते भी तो क्यों नहीं, आखिर यह मामला इतना खौफनाक जो था। एक ही परिवार के ग्यारह लोगों का एक ही स्थान पर आत्महत्या करना किसी के भी गले के नीचे नहीं उतरा।
उधर, घटना के तीन दिन बाद चित्तौड़गढ़ में रहने वाले तीसरे भाई दिनेश सामने आए हैं। हालांकि उन्होंने मौतों के पीछे तंत्र-मंत्र और धर्मांधता या किसी तांत्रिक की बात होने से इनकार किया है।
देखिये नए खुलासे करता वीडियो 

दिनेश ने घर से बाहर निकले उन 11 पाइपों का रहस्य भी बताया। दिनेश का कहना है कि पाइप वाली बात बिल्कुल गलत है। उन्होंने कहा कि दरअसल उनके भाई का प्लाईउड का काम था, इस वजह से काफी काफी गैस बनती थी और इन 11 पाइपों को इसीलिए लगवाया गया था ताकि गैस निकलती रहे।

burari murder mystery: तीसरे भाई ने खोला 11 पाइपों का राज

उनका साफ-साफ कहना है, ‘क्राइम ब्रांच जो बातें कर रही है वो बिल्कुल गलत है। हमारा परिवार धार्मिक परिवार था। इस तरह की कोई बात नहीं थी। हम पूरी तरह से इस बात का खंडन करते हैं। पुलिस मामले की तफ्तीश कर रही है. हमें नहीं पता रजिस्टर की क्या बात है। यह आत्महत्या का मामला नहीं है हत्या का मामला है।’

ये भी देखें : बुराड़ी कांड: पुलिस के हाथ लगे रजिस्टर में लिखी थी 30 जून को भगवान से मिलने की बात

वहीं अब इस मामले में उठे कुछ सवालों ने इस केस को और भी उलझा दिया है। जी हां यानी अगर यह मामला खुदकुशी का है तो 11 लोग इकट्ठे कैसे राजी हो गए? अगर सभी ने एक जगह खुदकुशी की, तो पहले वाले को मरता देख किसी अन्य को डर नहीं लगा? अगर ये सामूहिक हत्या है तो कान में रुई क्यों ठूंसी? उनके मुंह और आंखों पर टेप क्यों चिपका था?

Image result for burari case

अगर यह सामूहिक आत्महत्या है, तो घर के किसी सदस्य ने सुसाइड नोट क्यों नहीं छोड़ा। पुलिस को दो रजिस्टर बरामद हुए हैं, जिनमें धार्मिक अनुष्ठान और ‘मोक्ष’ की बातें लिखी हैं।

मरने वालों में ज्यादातर के गले में चुन्नी बंधी हुई थी, जिनमें धार्मिक संदेश लिखे हुए थे. ऐसा होने की वजह क्या हो सकती है?

Image result for burari case

होने को यह भी हो सकता है कि यह मामला किसी की सोची-समझी साजिश का हिस्सा हो अर्थात अपराधी ने बड़े ही शातिर तरीके से इस मामले का अंजाम रचा हो और यह भी हो सकता है कि यह सचमुच अन्धविश्वास के चलते की गई आत्महत्या हो।
पास-पड़ोस के लोगों के मुताबिक, दोनों भाइयों के परिवारों के बीच बहुत अच्छा तालमेल था। उनमें कोई अनबन नहीं थी।इसी महीने उन्होंने पूरे मकान का रिनोवेशन भी करवाया था। एक बेटी की शादी भी तय हो चुकी है, फिर खुदकुशी की क्या वजह हो सकती है?
Image result for burari case

घर की सबसे बुजुर्ग महिला का शव दूसरे कमरे में बेड के नीचे पड़ा मिला। उनका वजन काफी ज्यादा था। उनके गले में गहरे निशान मिले हैं। पुलिस का कहना है कि ये निशान बेल्ट के हो सकते हैं। मतलब किसी ने बुजुर्ग महिला का गला घोंटा होगा. पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, इस बुजुर्ग महिला की मौत सबसे आखिर में हुई। तो फिर इनका गला किसने घोंटा?

सीबीआई के मुताबिक़, घर में मिले दोनों रजिस्टरों में मृतक ललित की हैंड राइटिंग है। ललित छोटा भाई था, जिसकी फर्नीचर की दुकान थी। रजिस्टर में लिखा है, ‘ललित के स्वास्थ्य की चिंता मत करो, मेरे आने से प्रभाव पड़ता है’। बताया गया की ललित के पिता उसके सपने में आते थे और उन्होंने ही यह सब उससे लिखवाया था. क्या यह संभव है ?

देखें वीडियो