Top

खुदकुशी: पापा अब मुझे मरने दो मेरा जीवन तो वैसे ही बेकार है, और फिर मौत को लगाया गले

sujeetkumar

sujeetkumarBy sujeetkumar

Published on 3 May 2017 2:25 PM GMT

खुदकुशी: पापा अब मुझे मरने दो मेरा जीवन तो वैसे ही बेकार है, और फिर मौत को लगाया गले
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: पापा अब मुझे मरने दो मेरा जीवन तो वैसे ही बेकार है, सभी भाइयों को आराम से रहने दो। लेकिन मेरे कातिल को छोड़ना मत। यो वो शब्द हैं, जिसे एक शख्स ने खुदकुशी करने से पहले बोले हैं। नौबस्ता थाना क्षेत्र के हंसपुर में रहने वाले कौशल किशोर (दिव्यांग) का शव बुधवार (3 मई) को एक बंद कमरे में मिला। दिव्यांग का गैस के पाइप से गला कसा हुआ था। मौके पर पहुंची पुलिस और फोरेंसिक टीम ने घटनास्थल का निरिक्षण किया और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

मृतक ने अपनी मौत का जिम्मेदार पटेल नगर में रहने वाले शिव मोहन दुबे को बताया है। मृतक कौशल किशोर ने अपने सुसाइड नोट में शिव मोहन उसकी पत्नी और उसकी बेटी को फांसी की सजा दिलाने की मांग की है।

आगे कि स्लाइड में पढ़ें पूरी खबर...

क्या है मामला?

-नौबस्ता थाना क्षेत्र के हंसपुर में रहने वाले परमेश्वर तिवारी का लोहे की जंजीर बनाने का कारखाना है।

-परिवार में पांच बेटे और दो बेटियां हैं, जिनकी शादी हो चुकी है।

-मृतक कौशल किशोर बांए पैर से दिव्यांग था, और अपने पिता के काम में हाथ बंटाता था।

मजदूर के घर में रुका था कौशल

कौशल बीते मंगलवार की रात मजदूर के घर में रुका था। बुधवार सुबह कौशल ने फोन करके घर पर खाना खाने की बात कहीं और फोन काट दिया। लेकिन जब वह दोपहर तक घर नहीं पहुंचा तो उसके भाई ने कारखाने जाकर देखा। जहां कारखाने के आगे का गेट बंद था। मृतक के भाई ने जब पीछे की तरफ जाकर देखा तो एक कमरे में उसके भाई कौशल का शव पड़ा था, और गला गैस के पाइप से कसा हुआ था। उसके भाई ने इस बात की जानकारी अपने पिता को देने के बाद उसने पुलिस को भी इस घटना की सूचना दी।

आग की स्लाइड में पढ़ें क्या कहा मृतक के पिता ने...

क्या कहा मृतक के पिता ने

-मृतक के पिता परमेश्वर ने बताया कि शिव मोहन दुबे पहले उनके घर के पास ही रहता था।

-शिव की आर्थिक मदद उनके मृतक बेटे ने की थी।

-जिसके बाद शिव मोहन ने पटेल नगर में जमीन लेकर घर बनवाया और वहीं पर रहने लगा।

-लेकिन जब कौशल ने उससे अपने रुपए मांगे तो वह धमकी देकर रुपए ना देने की बात कही।

-इतना ही नहीं शिव मोहन ने कौशल पर उसकी पत्नी लक्ष्मी और बेटी कोमल को छेड़ने का आरोप भी लगाया।

-शिव मोहन हंसपुर चौकी इंचार्ज लल्लू राम रावत से दबाव बनवाने लगा।

-चौकी इंचार्ज कौशल को आए परेशान करता था। वह पैसे लेकर शिव से रुपए दिलवाने की बात करता था।

-कौशल द्वारा पैसा देने से इनकार करने पर चौकी इंचार्ज छेड़छाड़ के केस में उसे जेल भेजने की बात करता था।

सीओ गोविंद नगर आतिश कुमार सिंह के मुताबिक

-बुधवार को एक दिव्यांग का शव मिला है। इनके पास से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। घटना की जांच जारी है।

sujeetkumar

sujeetkumar

Next Story