Top

बैंक व इंश्योरेंस कंपनी में नौकरी दिलाने वाले फर्जी कॉल सेंटर का पर्दाफाश

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 31 Oct 2018 12:50 PM GMT

बैंक व इंश्योरेंस कंपनी में नौकरी दिलाने वाले फर्जी कॉल सेंटर का पर्दाफाश
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा: साइबर क्राइम सेल और कोतवाली सेक्टर 20 पुलिस ने संयुक्त रूप से फर्जी कॉल सेंटर का पदार्फाश किया है। कॉल सेंटर कर्मचारी बैंक और इंश्योरेंस कंपनियों में नौकरी दिलाने का लालच देकर ठगी कर रहे थे। पीड़ितों का मोबाइल नंबर क्विकर डॉट कॉम से चोरी करते थे। पीड़ितों को फर्जी आफर लेटर मेल करके 1500 से 15 हजार रुपये तक अपने खाते में ट्रांसफर करा लेते थे। जरूरत पड़ने पर पेटीएम में भी पैसे डलवा लेते थे। पुलिस ने इस कॉल सेंटर के फर्जीवाड़े का खुलासा करते हुए 18 गिरफ्तारियां की हैं।

ये भी देखें: बंदी धार्मिक ग्रंथ पढ़कर सुधारेंगे अपनी ज़िन्दगी, बरेली डीएम ने शुरू की नई पहल

एसपी सिटी कार्यालय के पास बनाया था अड्डा

यह कॉल सेंटर सेक्टर 6 स्थित एसपी सिटी कार्यालय से महज 400 मीटर की दूरी पर बी-31 में चल रहा था। यहीं पर साइबर क्राइम सेल का भी कार्यालय है। लेकिन पिछले पांच महीने से संचालित हो रहे फर्जी कॉल सेंटर की किसी को भनक तक नहीं लग सकी। मौके से कॉल सेंटर में काम करने वाले 18 कर्मचारियों को गिरफ्तार किया गया। इन्हें बुधवार को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। कॉल सेंटर संचालक समेत पांच आरोपित फरार हो गये हैं। इनकी तलाश की जा रही है।

ये भी देखें:बंदी धार्मिक ग्रंथ पढ़कर सुधारेंगे अपनी ज़िन्दगी, बरेली डीएम ने शुरू की नई पहल

इंस्‍पेक्‍टर मनोज पंत की रही अ‍हम भूमिका

एसपी क्राइम अशोक कुमार ने बताया कि मुखबिर से सेक्टर 6 के बी-31 में फर्जी कॉल सेंटर संचालित होने की जानकारी मिली थी। सेक्टर 20 कोतवाली इंस्पेक्टर मनोज पंत और साइबर क्राइम सेल इंस्पेक्टर मोहम्मद जहीर खान के नेतृत्व में मंगलवार शाम छापामारी की गई। मौके से 18 कर्मचारी काम करते पाये गये। उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपितों से 30 मोबाइल, 5 कम्प्युटर, दो आधार कार्ड और एक पैन कॉर्ड बरामद हुआ है। गिरफ्तार आरोपितों की पहचान बिहार के रहने वाले पिंकू कुमार, शहजाद, धीरज, फंटूस, बिट्टू, रोशन कुमार, विकास कुमार, इलाहाबाद निवासी मुकेश कुमार, कानपुर निवासी मनीष कुमार, उड़ीसा निवासी निगम जैन, अशोक नगर दिल्ली निवासी विकास कुमार, गोंडा निवासी आकाश, सेक्टर 176 नोएडा निवासी मोनू सिंह, निठारी निवासी बिट्टू पांडेय, अभिषेक सिंह निवासी बलिया और अभिषेक सिंह निवासी कानपुर के रूप में हुई है।

ये भी देखें:UPTET: कुछ देर बाद से एडमिट कार्ड कर सकते हैं डाउनलोड, जानें अन्य महत्वपूर्ण बातें

sudhanshu

sudhanshu

Next Story