Top

फर्जी पासपोर्ट के मामले में निरुद्ध अभियुक्त तीन दिन के रिमांड पर

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 5 Jan 2018 2:23 PM GMT

फर्जी पासपोर्ट के मामले में निरुद्ध अभियुक्त तीन दिन के रिमांड पर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : विशेष सीजेएम छवि अस्थाना ने फर्जी पासपोर्ट बनवाने व बनाने आदि के मामले में निरुद्ध अभियुक्त अहसान अहमद व युसूफ अली उर्फ नजरुल को तीन दिन के लिए एटीएस की कस्टडी में सौंपने का आदेश दिया है।

अभियुक्तों की पुलिस कस्टडी रिमांड की यह अवधि 6 जनवरी की सुबह 11 बजे से शुरु होगी। उन्होंने यह आदेश इस मामले के विवेचक व एटीएस बरेली के निरीक्षक वीर सिंह की अर्जी पर दिया है।

विवेचक का कहना था कि अभियुक्तों के कब्जे से फर्जी पहचान पत्र, पासपोर्ट, पैन कार्ड, आधार कार्ड व निवास प्रमाण पत्र विभिन्न नाम-पते के बरामद हुए हैं। इनके पास से फर्जी अभिलेख तैयार करने में इस्तेमाल किए जाने वाले उपकरण व अभिलेखीय सामग्री आदि भी बरामद हुई है।

इन्होंने अपने बयान में यह भी कहा है कि इस कार्य में उनकी साठगांठ अन्य व्यक्तियों से भी है। लिहाजा मुल्जिमों के जरिए उनके नेटवर्क में शामिल सदस्यों की पहचान करके उनकी गिरफ्तारी करने, राजस्व व अन्य राजकीय विभागों में इनके मददगार लोगों की पहचान स्थापित करने तथा राष्ट्रªीय सुरक्षा से जुड़े बिन्दूआंे पर इनसे सघन पूछताछ करने के लिए इन्हें पांच दिन की पुलिस कस्टडी में दिया जाए।

शुक्रवार को इस अर्जी पर सुनवाई के दौरान यह दोनों अभियुक्त जेल से अदालत में हाजिर थे।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story