Top

अमरूद तोड़ने के विवाद में दो समुदायों में चली गोली, नौ घायल

By

Published on 28 Aug 2017 5:18 AM GMT

अमरूद तोड़ने के विवाद में दो समुदायों में चली गोली, नौ घायल
X
अमरूद तोड़ने के विवाद में दो समुदायों में चली गोली, नौ घायल
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बहराइच: मुरलीधर दंदौली गांव में बच्चों द्वारा अमरूद तोड़ने को लेकर हुए विवाद में दो समुदाय के लोगों में जमकर संघर्ष हुआ। पूर्व प्रधान ने अपनी लाइसेंसी बंदूक से फायरिंग भी की। फायरिंग और संघर्ष में आठ लोग घायल हुए हैं। इनमें दो घायलों की हालत नाजुक बताई जा रही है। उन्हें जिला अस्पताल से ट्रामा सेंटर लखनऊ रेफर कर दिया गया है। पुलिस ने दोनों पक्षों की तहरीर पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

क्या है पूरा मामला

प्राप्त समाचार के अनुसार रुपईडीहा थाना अंतर्गत मुरलीधर दंदौली गांव निवासी भल्लू सोनकर व पूर्व प्रधान सहादत अली के बीच संघर्ष हुआ। भल्लू का कहना है कि उनका आठ वर्षीय भाई गांव के बाहर स्थित बाग में शाम को अमरूद तोड़ रहा था। इस पर पूर्व प्रधान के परिवार के लोगों ने उसे मारापीटा। भल्लू ने बताया कि घर पहुंचने पर जब उसे घटना की जानकारी हुई तो वह सहादत के घर भाई को मारने-पीटने की शिकायत करने पहुंचा था। इसी बात को लेकर पूर्व प्रधान सहादत व उनके समर्थकों ने विवाद शुरू कर दिया। शोर सुनकर भल्लू पक्ष के लोग भी एकत्रित हो गए। कहासुनी के बाद हाथापाई होने लगी। दोनों तरफ से ईंट-पत्थर चले।

धारदार हथियारों का प्रयोग हुआ। इसी बीच पूर्व प्रधान सहादत ने अपनी लाइसेंसी बंदूक से फायरिंग शुरू कर दी। मारपीट और संघर्ष में दोनों पक्ष के लोग लहूलुहान हो गए। इनमें बबलू, पप्पू, शुभान अली, राजू, सहादत अली, आफरीन, भल्लू सोनकर, ब्रह्मा प्रसाद आदि शामिल हैं। पूर्व प्रधान सहादत अली और आफरीन की हालत नाजुक बताई जा रही है।

सभी को बाबागंज स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया गया। वहां से डॉक्टरों ने इलाज के लिए उन्हें जिला अस्पताल भेज दिया। जिनमें दो घायलों को ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया है।

क्या है थानाध्यक्ष का कहना

दो समुदाय के बीच संघर्ष होने के चलते गांव में तनाव की स्थिति बन गई। सूचना पाकर प्रभारी निरीक्षक आलोक राव ने मौके पर पहुंचकर किसी तरह स्थिति को संभाला। थानाध्यक्ष ने बताया कि गांव में तनाव को देखते हुए दो ट्रक पीएसी के जवानों को तैनात किया गया है। दोनों पक्षों की तहरीर पर 40 लोगों के खिलाफ क्रास केस दर्ज कर जांच शुरू की गई है।

दोनों पक्षों में चल रहा जमीनी विवाद

अमरूद तोड़ने को लेकर हुआ संघर्ष महज एक बहाना है। गौरतलब हो कि पूर्व प्रधान सहादत और भल्लू सोनकर के परिवार के बीच अरसे से जमीनी विवाद चल रहा है। आए दिन झड़प होती रहती है। उसी खुन्नस के चलते दोनों पक्ष आपस में भिड़े।

बचाव के लिए किया फायरिंग

पूर्व प्रधान सहादत अली का कहना है कि भल्लू सोनकर अपने पिता ब्रह्मा प्रसाद समेत दर्जनों लोगों के साथ धारदार हथियारों से लैस होकर घर पर आ धमके थे। परिवारीजनों को मारने-पीटने लगे। ऐसे में बचाव के लिए लाइसेंसी बंदूक से फायरिंग की।

Next Story