Top

चुनावी रंजिश: पुलिस के हटते ही ग्राम प्रधान के घर बरसाई गोलियां, 2 मरे

By

Published on 17 May 2016 3:41 PM GMT

चुनावी रंजिश: पुलिस के हटते ही ग्राम प्रधान के घर बरसाई गोलियां, 2 मरे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सहारनपुर: ग्राम प्रधान के चुनाव को लेकर चली आ रही चुनावी रंजिश मंगलवार दोपहर खूनी संघर्ष में तब्दील हो गई। चुनाव में हारे हुए प्रत्याशी ने अपने पक्ष के लोगों के साथ मिलकर मौजूदा ग्राम प्रधान के घर पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दी।

इस गोलीबारी में मौजूदा ग्राम प्रधान पक्ष की ओर से 2 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। मामले की जानकारी दिए जाने के बावजूद घंटों तक पुलिस नहीं पहुंच सकी। इसके बाद दूसरे थाने की पुलिस गांव में पहुंची तो हमलावर फायरिंग करते हुए फरार हो गए।

क्या है मामला ?

-मामला थाना देहात कोतवाली के गांव ढमोला का है।

-जहां मौजूदा ग्राम प्रधान हाजी इंतजार का गांव के ही नफीस के परिवार से चुनावी रंजिश चली आ रही है।

-हाजी इंतजार के मुताबिक पिछले 15 सालों से चुनाव में हारते रहने से नफीस उससे नाराज था।

-इस बार के चुनाव में भी हाजी इंतजार ने नफीस को हरा दिया था।

-नफीस ने पहले भी ग्राम प्रधान हाजी इंतजार को जान से मारने की धमकी दी थी।

-इसी बात को लेकर दोनों में कहासुनी भी हो चुकी है।

यह भी पढ़ें ... चुनावी रंजिश में मर्डर: रामलीला देखकर लौट रहा था पूर्व प्रधान का बेटा

15 दिन से गांव में तैनात थी पुलिस फोर्स

-10 मई को ग्राम प्रधान इंतजार के बेटे फिरोज की शादी थी।

-हाजी इंतजार ने बताया कि नफीस ने शादी में बाधा डालने का एलान किया था।

-इसके चलते आलाधिकारियों से गुहार लगाए जाने के बाद गांव में पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई थी।

-मंगलवार दोपहर बाद गांव से पुलिस फोर्स को हटा लिया गया था।

hazi-intezar

-इसी का फायदा उठाते हुए नफीस ने अपने 30-40 साथियों संग हाजी इंतजार के घर में ताबड़तोड़ फायरिंग शुरु कर दी।

-इस फायरिंग में हाजी इंतजार के घर में रह रहे गफ्फार (40) और गुलफशा (18) की मौके पर ही मौत हो गई।

-जबकि मुसर्रत, जुबैर, फिरोज और अनस गंभीर रुप से घायल हो गए।

यह भी पढ़ें ... डेढ़ लाख लूटने के बाद जिंदा जलाया, प्रधानी चुनाव में नहीं दिया था वोट

saharanpur-firing

सूचना मिलने के बावजूद नहीं पहुंची पुलिस

-मामले की जानकारी थाना देहात पुलिस को दी गई, लेकिन घंटों बाद भी पुलिस मौके पर नहीं पहुंची।

-जिसके बाद जनकपुरी थाना पुलिस को घटना की सूचना दी गई।

-जनकपुरी थाना पुलिस को गांव में आते देख हमलावर फायरिंग करते हुए फरार हो गए।

-इसके बाद कई गांवों की पुलिस मौके पर पहुंच गई।

घायलों को हॉस्पिटल ले जाते हुए घायलों को हॉस्पिटल ले जाते हुए

क्या कहना है सीओ का

-सीओ सुनीति ने बताया कि घायलों को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।

-तहरीर मिलते ही केस दर्ज किया जाएगा।

-हमलावरों की गिरफ्तारी के प्रयास शुरु कर दिए गए हैं।

-गांव में सुरक्षा की दृष्टि से फोर्स तैनात कर दी गई है।

Next Story