Top

ट्रेन में घुसकर गार्ड को मारी दो गोलियां, सामने चौकी की पुलिस बनी रही मूक बधिर

By

Published on 26 Sep 2017 7:41 AM GMT

ट्रेन में घुसकर गार्ड को मारी दो गोलियां, सामने चौकी की पुलिस बनी रही मूक बधिर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

शाहजहांपुर: यूपी के शाहजहांपुर में बदमाशों ने रेलवे की सुरक्षा को चुनौती देते हुए स्टेशन पर जीआरपी पुलिस चौकी के सामने बड़ी घटना को अंजाम दिया है। बदमाशों ने ट्रेन में घुसकर गार्ड को गोली मार दी। इस दौरान गार्ड और बदमाशों के बीच जमकर मारपीट हुई, लेकिन लेकिन सामने जीआरपी पुलिस चौकी पर तैनात पुलिस फोर्स मूक-बधिर बनी रही। गोली से घायल गार्ड को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

फिलहाल स्टेशन पर चौकी के सामने इतनी बड़ी घटना ने सुरक्षा व्यवस्था पर बड़े सवालिया निशान खड़े कर दिए हैं कि आखिर यात्रियों की सुरक्षा राम भरोसे ही है। वहीं पुलिस की पोल खुलने के डर से दरोगा मीडियाकर्मियों को धमका रहा है और कैमरे बंद करने की धमकी दे रहा था।

यह भी पढ़ें: देवरिया: पत्नी के ह्त्या के आरोप में बंदी कैदी रायबारी गांव निवासी बुदधू ने की सुसाइड

क्या है पूरी घटना

घटना रोजा रेलवे जंक्शन की है जहां रेलवे कॉलोनी निवासी अजीत कुमार गुप्ता रोजा से माल गाड़ी पर गार्ड के पद पर तैनात है। बीती रात मालगाड़ी रोजा से मुरादाबाद जा रही थी। ट्रेन की बोगी रोजा स्टेशन के जीआरपी चौकी के सामने ही खड़ी थी, इस दौरान चार बदमाशों ने ट्रेन चलने से पहले ट्रेन पर चढ़कर गार्ड अजीत पर हमला बोल दिया और ट्रेन से खींच कर ले जाने लगे। जब इसका गार्ड अजीत गुप्ता ने विरोध किया तो पहले तो उसके साथ मारपीट की, उसके बाद फायरिंग करते हुए दो फायर किए, जो उसको छूटे हुए निकल गए। इस दौरान बदमाशों और गार्ड के बीच मारपीट भी हुई। गोली से घायल गार्ड को आनन-फानन में रेलवे अस्पताल ले जाया गया, जहां से जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। जहां उसका इलाज किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: शाहजहांपुर में 45 दलित परिवार दबंगई का हुए शिकार, विशेष समुदाय ने दी पलायन की धमकी

घायल गार्ड अजीत गुप्ता ने बताया कि उसकी बाती रात रोजा से मुरादाबाद जाने वाले मालगाड़ी पर लगाई गई थी। उसकी गाड़ी का टाईम 1:45 था। रात में उसको उसका भाई स्टेशन छोङकर चला गया था। उसने 1:30 चार्ज ले लिया था। मालगाड़ी स्टेशन पर ही खङी थी। जब वह ट्रेन पर चढ़ा तो उसको तीन युवक प्लेटफार्म नंबर तीन पर बैठे दिखाई दिए। लेकिन वैसे ही लखनऊ की तरफ से काशी एक्सप्रेस आ गई, उसके बाद देखा तो तीनों युवक गायब थे। तभी उसने अपने केबिन के बाहर देखा तो तीनों युवक खङे थे, जिसमें से एक युवक उसके केबिन में घुसने लगा। जब उसने विरोध किया तो वह उसके साथ मारपीट करने लगा।

यह भी पढ़ें: शाहजहांपुर की सलोनी ने जीता मिसेज इंडिया ब्यूटी क्वीन का खिताब

जब उसने ट्रेन के नीचे खड़े दो युवकों के हाथ मे तमंचे देखे तो उसने हाथ में लिए वाकी टाकी युवक के मुंह पर मार दिया। जिसके बाद बदमाशों ने की राउंड फायरिंग की, जिसमें दो फायर उसको पैर में छूते हुए निकल गए। गार्ड ने जीआरपी पर भी सवाल उठाए हैं कि पुलिस चौकी सामने थी, जब उसके उपर फायरिंग हो रही थी। लेकिन उस वक्त एक भी सिपाही वहां पर नहीं आया। हालांकि इस दौरान जब सूचना पाते ही मीडियाकर्मी मौके पर पहुंचे। जब मीडियाकर्मियों ने कैमरे चलाना शुरू किए तो दरोगा जी अपनी नाकामियों को छुपाने के लिए उल्टा मीडियाकर्मियों को ही धमकाते नजर आए। कैमरे बंद करने की नसीहत देते रहे।

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश: शाहजहांपुर में 37 भू माफियाओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज

क्या है एसओ का कहना

वही जीआरपी एसओ सत्यपाल सिंह ने बताया कि बीती रात रोजा जंक्शन पर गार्ड पर फायरिंग की गई थी। जैसा गार्ड का आरोप है। रात में गार्ड बदमाशों की बात कर रहा था। लेकिन आज सुबह तहरीर में उसने फ्लैट को लेकर पवन ओर अभिषेक से विवाद बताते हुए उनके पर फायरिंग करने का आरोप लगाया है। इस मामले में रात ही हमने आरोपियों के घर दबिश दी थी, लेकिन परिजनों से पता चला कि वह लखनऊ मे है फोन पर मेरी आरोपियों से बात हुई है। मामला अभी तक संदिग्ध प्रतीत हो रहा है। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है।

Next Story