Top

अनुदान के नाम पर करोड़ों की ठगी, एसपी ने दिया जांच का आदेश

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 22 Oct 2018 1:56 PM GMT

अनुदान के नाम पर करोड़ों की ठगी, एसपी ने दिया जांच का आदेश
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जौनपुर: जिले के कोतवाली थाना क्षेत्र में एक गर्ल्स स्कूल और एक सोशल आर्गनाइजेशन के संचालक ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय से संस्थाओं को सरकारी फंड दिलाने के नाम पर देवरिया जिले की 16 संस्थाओं से करोड़ों रूपए ऐंठ लिए। उन्हें पांच करोड़ 13 लाख 71 हजार पांच सौ रूपए का अलग-अलग बैंकों का चेक दे दिया, जो बाउंस हो गया। यह खेल विगत तीन साल से चलता रहा। पैसा न मिलने पर संस्थाओं के संचालकों ने सोमवार को एसपी से शिकायत की है। एसपी ने पूरे मामले में जांच बैठा दी है। उधर आर्गनाइजेशन के संचालक के मोबाइल स्वीच ऑफ हो गए हैं। कथित संचालक पर और भी संस्थाओं से पैसे लेने का आरोप है।

ये भी देखें: यहां झोपड़ी में चल रहा अस्‍पताल, ढिबरी की रोशनी में होता है आपरेशन

ये है मामला

देवरिया के बघौच घाट थाना क्षेत्र के हड़फोड़ा रामपुर महुआवारी के उम्म ए कुल्सुम एजुकेशनल एवं चैरिटेबल सोसाइटी के प्रबंधक खुर्शीद आलम खां का आरोप है कि सोशल आर्गनाइजेशन का अपने को निदेशक बताने वाले एक व्यक्ति ने मदरसा, कालेज, इंस्टीट्यूशन के लिए फंड दिलाने का भरोसा दिया और उन्हें गोरखपुर मंडल के मैनेजर का पद दिया। उन्‍होंने कहा कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय से सभी संस्थाओं को सरकारी करा दिया जाएगा। इस आश्वासन पर उन्होंने 16 संस्थाओं को जोड़ दिया और इसके नाम पर सभी संस्थाओं ने मिलकर 63 लाख छ: हजार रूपए संस्था के खाते में जमा कर दिया।

ये भी देखें: जन्मदिन विशेष : 13 पॉइंट्स में जानिए अशफाक उल्ला खां के बारे में, जो बेहद खास है

100 रूपये के स्‍टैंप पर हुआ एग्रीमेंट

इसके बाद 100 रूपए के सादे स्टैंप पर एग्रीमेंट कराने के नाम पर हस्ताक्षर कराकर रख लिया। मानव संसाधन विकास मंत्रालय की निदेशक बनकर कोई महिला से बात कराता था। महिला अपने को यूपी की प्रोजेक्ट निदेशिका बताती थी। आरोप है कि संस्था संचालक ने भारत सरकार का अनुदान बताते हुए पांच करोड़ 13 लाख 71 हजार रूपए के कई चेक दिए जो बाउंस हो गए। पैसे मांगने पर अब वह धमकी देने लगा है और फर्जी केस में फंसाने का कुचक्र रच रहा है।

ये भी देखें: बीजेपी के इस विधायक पर मुकदमा दर्ज, भाई और लड़के पर भी ये आरोप

इस संदर्भ में पुलिस प्रमुख दिनेश पाल सिंह से बात करने पर उन्होंने बताया कि मामला संज्ञान में आया है। इसकी जांच कराई जा रही है। जांच में दोषी पाए जाने पर संस्था संचालक के खिलाफ कार्रवाई होगी।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story