Top

गैंगरेप पीड़िता ने एसपी से लगाई इंसाफ की गुहार, पुलिस ने नहीं की आरोपियों पर कार्रवाई

फोन पर पति की हालत जान कर पत्नी माधुरी किसी तरह गोरखपुर स्टेशन पहुंची जहां प्लेटफॉर्म नंबर 7 पर पति अजय मरणासन्न हालत में मिले। पति अजय ने पत्नी माधुरी को सारी घटना बताई और वहीं प्लेटफॉर्म पर दम तोड़ दिया।

zafar

zafarBy zafar

Published on 22 Dec 2016 3:20 PM GMT

गैंगरेप पीड़िता ने एसपी से लगाई इंसाफ की गुहार, पुलिस ने नहीं की आरोपियों पर कार्रवाई
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गोंडा: पिटाई से पति की मौत और फिर गैंगरेप के बाद एक पीड़िता न्याय के लिए दर दर भटकती रही, लेकिन उसकी सुनवाई नहीं हुई। यहां तक कि पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मुकदमा तक नहीं लिख। आखिर पीड़िता ने इंसाफ के लिए एसपी का दरवाजा खटखटाया है। मामले में मुख्य आरोपी पीड़िता का जीजा है।

जीजा पर आरोप

-जिले के कौड़िया थाना इलाके के मोहल्ला महाराजगंज निवासी अजय को उसके साढ़ू ने नौकरी के बहाने मुंबई बुलाया था।

-लेकिन मुंबई में आरोपी राजू ने अपने साथियों मिश्रीलाल, मुंशीलाल और खुन्नू के साथ मिल कर उसे बुरी तरह पीटा और मरने की हालत में ट्रेन पर बिठा दिया।

-आरोपी मिश्रीलाल ने अजय की पत्नी माधुरी को फोन करके बता भी दिया कि अपने पति को जिंदा या मुर्दा ट्रेन से उतार ले।

-फिर 19 नवंबर को अजय ने भी किसी से पत्नी को फोन कराया और अपने बारे में जानकारी दी।

-फोन पर पति की हालत जान कर पत्नी माधुरी किसी तरह गोरखपुर स्टेशन पहुंची जहां प्लेटफॉर्म नंबर 7 पर पति अजय मरणासन्न हालत में मिले।

-पति अजय ने पत्नी माधुरी को सारी घटना बताई और वहीं प्लेटफॉर्म पर दम तोड़ दिया।

पुलिस ने नहीं की कार्रवाई

-पति अजय का शव लेकर पत्नी माधुरी गोंडा पहुंची और नगर कोतवाली में मामले की जानकारी दी।

-पुलिस ने शव का पोस्टमॉर्टम कराके परिजनों को सौंप दिया। लेकिन मामले में कोई कार्रवाई नहीं की।

-आरोपी फिर गोंडा पहुंचे और 18 दिसंबर को आरोपी जीजा राजू और उसके साथी खिन्नू ने माधुरी के साथ गैंगरेप किया।

-गैंगरेप के बाद आरोपियों ने धमकी दी कि अगर इस बारे में किसी को जानकारी दी तो पति की तरह ही उसे भी मार देंगे।

-पीड़िता ने गैंगरेप की जानकारी पुलिस को दी और अपनी सुरक्षा की गुहार लगाई।

सुरक्षा की गुहार

-लेकिन आरोप है कि मामले में पुलिस आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने से कतराती रही।

-तंग आकर पीड़िता ने पुलिस अधीक्षक को प्रार्थना पत्र देकर एफआईआर दर्ज कराने और 3 वर्षीया बेटी के साथ अपनी सुरक्षा की मांग की है।

-मामले में नगर कोतवाल बृजेश सिंह ने बताया कि मृतक अजय के पोस्टमॉर्टम में चोटों से मौत होना पाया गया है। लेकिन घटना मुंबई की इसलिए पूरी रिपोर्ट घाटकोपर थाने को भेज दी गई है।

-गैंगरेप की घटना की जांच की जा रही है, मामला सच पाया गया तो मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

zafar

zafar

Next Story