Top

Gorakhpur Tragedy: राजीव मिश्रा STF के लिए भी बने मुसीबत

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 30 Aug 2017 2:24 PM GMT

Gorakhpur Tragedy: राजीव मिश्रा STF के लिए भी बने मुसीबत
X
HC: BRD अस्पताल में बच्चों की मौत पर सचिव ने पेश की सीलबंद रिपोर्ट
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: गोरखपुर मेडिकल कालेज के पूर्व प्राचार्य डा. राजीव मिश्रा और उनकी पत्नी को यूपी एसटीएफ ने एक नामी वकील के घर से धर दबोचा। एसटीएफ राजीव और उनकी पत्नी को गोरखपुर ले गई, लेकिन टीम को वापस कानपुर लौटना पड़ा। यहां दोनों का मेडिकल कराया गया और किदवई नगर थाना क्षेत्र से ही गिरफ्तारी दिखाने के बाद कोर्ट में पेश किया और रिमांड पर लेना पड़ा।

ये भी देखें:अखिलेश के करीबी नेता पर मामला दर्ज, नौकरी के नाम पर ठगे लाखों

ये भी देखें:शेकतकर समिति की सिफारिशें मंजूर, 57000 सैनिकों की दोबारा तैनाती होगी

किदवई नगर थाना क्षेत्र के साकेत स्थित एक नामी वकील के घर से डा. राजीव मिश्रा और उनकी पत्नी पूर्णिमा को गिरफ्तार किया गया। एसटीएफ दोनों की गिरफ्तारी गोरखपुर से दिखाने की फिराक में थी। गिरफ्तारी के बाद एसटीएफ फौरन दोनों को लेकर लखनऊ चली गई थी और फिर गोरखपुर के लिए रवाना हो गई थी। जानकारी के मुताबिक जैसे ही यह खबर सामने आई एसटीएफ के लिए मुश्किल खड़ी हो गई।

ये भी देखें:शिमला रेप केस में पुलिस का सच जान, आपका उठ जाएगा विश्वास

बीते मंगलवार देर रात एसटीएफ चोरी चुपके दोनों को लेकर गोरखपुर से कानपुर आई, और रात में ही उनका सीएमओ के माध्यम से मेडिकल कराया। सुबह जल्द ही उन्हें कोर्ट में पेश किया और रिमांड में लेकर गोरखपुर चली गई।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story