Top

सरकारी फार्मासिस्ट चला रहे हैं प्राईवेट क्लीनिक, रोज लगाते हैं फर्जी हाजिरी

Manoj Dwivedi

Manoj DwivediBy Manoj Dwivedi

Published on 11 Jun 2018 9:21 AM GMT

सरकारी फार्मासिस्ट चला रहे हैं प्राईवेट क्लीनिक, रोज लगाते हैं फर्जी हाजिरी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

शामली: सरकारी प्राथमिक स्वास्थ केनछ पर तैनात फार्मासिस्ट द्वारा प्राईवेट क्लीनिक चलाने तथा परामार्श चिकित्सक के रूप में कार्य करने का मामला प्रकाश में आया है। आरोप है। कि उच्चधिकारियो की मिलीभगत से पीएचसी तैनात फार्मासिस्ट रजिस्टर में अपनी हाजिरी लगाकर अपने निजी क्लीनिक पर पहुंच जाता है।

दरअसल मामला जनपद शामली के प्राथमिक स्वास्थ केन्द्र गांव सिलावर में चिकित्सक के अलावा एक वार्ड ब्याय एक चतुर्थ श्रेर्णी कर्मचारी एक फार्मासिस्ट व दो एएनएम तैनात है। शनिवार सुबह 11 बजे सीएचसी सिलावर में फार्मेसिस्ट कक्ष में कुर्सी खाली मिली। अस्पताल प्रभारी डॉ.पदम सिंह स्वयं मरीजो को देखने के बाद दवाई देते हुए मिले। जबकि फार्मासिस्ट श्रेष्ठ कुमार राठी की उपस्थिति रजिस्टर में हाजिरी लगी हुई थी। डा. पदम सिंह ने बताया कि फार्मासिस्ट श्रेष्ठ कुमार अपनी हाजिरी लगाकर चला जाता है।

लंबे और खूबसूरत बाल पाने के लिए रोज करें ये काम, फिर देखें कमाल

प्राथमिक स्वास्थ केन्द्र सिलावर प्रभारी डा.पदम सिंह ने बताया कि फार्मासिस्ट श्रेष्ठ कुमार राठी आज सुबह ही अपनी हाजिरी लगाकर मेरे सामने ही चले गये और हमें नहीं मालूम कि वह कहां पर है। अगर यहां कोई भी नहीं होगा तो भी मैं पर्ची भी बनाउंगा, दवाई भी दूंगा। यदि वे निजी क्लीनिक पर काम कर रहे हैं तो अपने स्तर से पता कर सीएमओ साहब को अवगत कराऊंगा।

वहीं जब शामली के पुराने डाकघर के पास स्थित श्रेष्ठ होम्योपैथिक हाल पर पहुंचे तो वहां पर फार्मासिस्ट श्रेष्ठ कुमार राठी बैठा परामर्श चिकित्सक के रूप में कार्य करता हुआ पाया गया। पूछताछ करने पर उसने अपने आप को श्रेष्ठ कुमार राठी न बताकर श्रेष्ठ कुमार राठी को अपना भाई बताया। जबकि आसपास के लोगों ने उसे ही श्रेष्ठ कुमार राठी बताया। यह भी कहा जा रहा है कि सरकारी फार्मासिस्ट के रूप में करीब 40 हजार रूपये प्रतिमाह वेतन लेने वाले श्रेष्ठ कुमार राठी ने अपनी साइन पर तीन हजार रूपये प्रतिमाह का एक निजी कर्मचारी अस्पताल में रखा हुआ है।

पसीने की बदबू से हैं परेशान तो इन घरेलू टिप्स को अपनाएं

एसीएमओ डॉ राजकुमार ने बताया कि फार्मासिस्ट श्रेष्ठ कुमार का पीएचसी से पता किया गया तो पता चला कि आज सुबह वहां पर आया और ​हाजिरी लगाकर चला गया। उसके खिलाफ जो भी आरोप लगे हैं वे सही पाए गए तो विभागीय कार्रवाई की जाएगी।

Manoj Dwivedi

Manoj Dwivedi

MJMC, BJMC, B.A in Journalism. Worked with Dainik Jagran, Hindustan. Money Bhaskar (Newsportal), Shukrawar Magazine, Metro Ujala. More Than 12 Years Experience in Journalism.

Next Story