Top

महोबा: जमीनी विवाद में हुआ गोलीकांड, पिता-पुत्र ने विरोधी को खुलेआम मारी गोली

By

Published on 26 April 2017 4:43 AM GMT

महोबा: जमीनी विवाद में हुआ गोलीकांड, पिता-पुत्र ने विरोधी को खुलेआम मारी गोली
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

महोबा गोलीबारी

महोबा: बुंदेलखंड में जर, जोरू और जमीन को लेकर खून बहाना आज भी कम होता नजर नहीं आ रहा। ऐसे मामलो में इजाफा होता दिखाई दे रहा है। मामला महोबा जनपद का है, जहां चंद बीघा पट्टे की जमीन के विवाद में एक नवयुवक को पिता-पुत्र ने देर शाम गोली मार दी।

घायल को पुलिस ने जिला अस्पताल में भर्ती कराया है, जहां उसकी हालत स्थिर है। वहीं इस घटना से परिवार में ख़ौफ़ है, तो गांव में दहशत व्याप्त है। दोनों आरोपियों की तलाश में पुलिस जुट गई है। सूचना पर एसपी गौरव सिंह ने भी मौके पर पहुंचकर घटना स्थल का जायजा लिया है।

यह है पूरा मामला

-बुंदेलखंड में जर, जोरू, जमीनी के लिए कत्लेआम आम बात है।

-विवादों को लेकर कहीं गोली और कहीं धारदार हथियार चल जाते हैं।

-हाल ही में एक और घटना घटी है, जिसमें जमीनी विवाद में एक युवक को मरणासन्न हालत में पहुंचा दिया गया।

-दरअसल कोतवाली चरखारी के ग्राम अस्थोंन निवासी तुलसीदास तिवारी की मां के नाम पर सिंचाई विभाग ने चंद बीघा जमीन का पट्टा किया था।

-पट्टे की इस जमीन पर तुलसीदास खेती करता था।

आगे की स्लाइड में जानिए कैसे बढ़ा दोनों पक्षों का विवाद

-लेकिन इस वर्ष सिंचाई विभाग के जिलेदार रामगोपाल शर्मा ने तुलसीदास की मां का पट्टा निरस्त कर दिया।

-जबकि इनके पट्टे का समय 2019 तक था, बावजूद इसके गांव के ही निवासी भगवती के नाम जमीन का पट्टा कर दिया।

-इस मामले को लेकर तुलसीदास न्यायालय की शरण में चला गया और स्टे ले आया।

-भगवती ने फसल बो दी और उसकी कटान को लेकर दोनों पक्षों के बीच विवाद बढ़ता चला गया।

-बार दोनों पक्षों ने पुलिस को विवाद की शिकायत की, मगर पुलिस द्वारा कोई गंभीर कार्यवाही अमल में न लाए जाने से दोनों ही पक्षों के हौसले बुलंद थे।

-बहरहाल फसल कटान को लेकर उपजे विवाद पर फसल को सिंचाई विभाग की सुपुर्दगी में रख दिया गया।

-इसी बात से भगवती विश्वकर्मा और उसका पुत्र खुन्नस खाए हुए थे।

-जब तुलसीदास का पुत्र 22 वर्षीय संदीप तिवारी देर शाम बाजार से गांव वापस लौट रहा था।

-तभी गांव के शमशानघाट के पास दो लोगों ने संदीप पर गोली से हमला कर दिया।

आगे की स्लाइड में जानिए कैसे आरोपियों ने बनाया शिकार

-परिजनों की माने तो रास्ते पर पहले से घात लगाए भगवती और उसके पुत्र हेमन्त ने संदीप पर बंदूक से ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी।

-जिससे संदीप के शरीर के बाएं हिस्से में गोली लग गई और वह गंभीर रूप से घायल हो गया।

-गोलियों की आवाज सुनकर ग्रामीण घटनास्थल की तरफ दौड़ पड़े, तबतक आरोपी पिता पुत्र मौके से फरार हो गए।

-घायल संदीप को परिजनों ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चरखारी में भर्ती कराया।

-जहां उसकी नाजुक हालत देख उसे महोबा जिला अस्पताल रिफर कर दिया गया।

घटना को लेकर क्या कहते हैं एसपी गौरव सिंह

-सूचना पर एसपी गौरव सिंह, सीओ चरखारी नंदलाल और दो थानों को पुलिस भी मौके पर पहुंच गई।

-एसपी ने घटनास्थल का जायजा लिया और घायल के परिजनों के बयान भी लिए हैं।

-इस पूरे मामले को लेकर एसपी गौरव सिंह ने बताया कि सिचाई विभाग के पट्टे की जमीन का विवाद है और जांच की जा रही है।

-जो भी तथ्य सामने आएंगे उस आधार पर कार्यवाही होगी।

-आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए टीम गठित की गई है जल्द ही आरोपी भी पुलिस की हिरासत में होंगे।

Next Story