Top

ये तो यूपी में ही हो सकता है जी! स्कूलों में दिला दी हिस्ट्रीशीटर को श्रद्धांजलि

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 11 Oct 2017 1:36 PM GMT

ये तो यूपी में ही हो सकता है जी! स्कूलों में दिला दी हिस्ट्रीशीटर को श्रद्धांजलि
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बिजनौर : लगता है यूपी में महापुरुषों की कमी महसूस होने लगी है तभी तो बिजनौर जिले में शिक्षा अधिकारी के आदेश पर एक नामचीन हिस्ट्रीशीटर की मौत पर कई सरकारी विद्यालयों में टीचरों ने श्रद्धांजलि सभा का आयोजन कर अवकाश घोषित कर दिया। मामला जब सार्वजनिक हुआ तो अब शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया है। और अब जिले के अधिकारी जांच का भरोसा दे रहे हैं।

ये भी देखें: धन्य है यूपी ! देखिए कैसे प्रधानमंत्री जन औषधि स्टोर के नाम पर BJP का प्रचार

3 दिन पहले धामपुर के एक वांटेड हिस्ट्रीशीटर शाहिद अली की अपने ही तमंचे से चली गोली से मौत हो गई थी। शाहिद के खिलाफ धामपुर थाने सहित कई थानों में लूट, हत्या, चोरी सहित कई गंभीर अपराधों के 25 से अधिक मुकदमे दर्ज थे। मृतक शाहिद जिले का नामचीन अपराधी था।

शाहिद का छोटा भाई नदीम नगीना के अभिनव जूनियर कन्या स्कूल में चपरासी के पद पर कार्यरत है। बीती 9 अक्टूबर को उसकी मौत के बाद नगीना नगर के 6 स्कूलों में श्रद्धांजलि अर्पित की गई। और आधे दिन का अवकाश घोषित किया गया।

ये भी देखें: जय हो! अब यूपी के 5 हजार प्राइमरी स्कूल बनेंगे English Medium

इस कारनामे को अंजाम तक ले जाने में अजीम नाम के एक अध्यापक और शिक्षाधिकारी देशराज वत्स का बड़ा योगदान रहा है।

वत्स के आदेश पर हिस्ट्रीशीटर को अभिनव जूनियर कन्या स्कूल लुहारी सराय, प्राथमिक स्कूल अकबराबान, प्राथमिक स्कूल पहाड़ी दरवाजा, प्राथमिक स्कूल बारादरी, प्राथमिक स्कूल लुहारी सराय प्रथम, प्राथमिक स्कूल लुहारी सराय द्वितीय में श्रधांजलि अर्पित की गई और आधे दिन का अवकाश घोषित किया गया।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story