Top

इंटरव्यू में पास कराने के लिए मांगे 10 लाख, CBI ने सेनेटरी इंस्‍पेक्‍टर को पकड़ा

By

Published on 21 Sep 2016 6:36 AM GMT

इंटरव्यू में पास कराने के लिए मांगे 10 लाख, CBI ने सेनेटरी इंस्‍पेक्‍टर को पकड़ा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मेरठः कैंट बोर्ड के क्‍लर्क के लिए 10-15 लाख की रिश्‍वत लेते सीबीअाई ने सेनेटरी इंस्पेक्टर को रंगे हाथ पकड़ा है। बताया जा रहा है कैंट इलाके में निर्माण कार्यो को लेकर इंस्पेक्टर योगेश यादव पहले भी सुर्खियों में रह चुका है।

क्या है मामला

-कैंट बोर्ड के क्लर्क पद के अभ्‍यर्थी अनुज से सेनेटरी इंस्पेक्टर योगेश यादव ने 10 लाख की रिश्‍वत मांगी।

-इंस्‍पेक्‍टर ने कहा कि वह उसे इंटरव्‍यू में पैैसे देकर पास करा देगा।

-इंस्‍पेक्‍टर की इस घूसखोरी की शिकायत अभ्‍यर्थी के चाचा ने सीबीआई से की।

-सीबीआई की छापेमारी के समय कई अफसरों और कर्मचारियों ने योगेश से संपर्क का प्रयास किया।

-लेकिन सीबीआई की टीम ने कोई मौका नहींं दिया।

-सीबीआई का कहना है कि इसमें कैंट बोर्ड के कुछ अधिकारी व कर्मचारी शामिल हो सकते हैंं। इसकी जांच चल रही है।

अभ्‍यर्थी पंद्रह लाख तक देने को तैयार थे

-छह शिक्षक, चौदह क्लर्क, दो मोटर मैकेनिक और एक हिंदी ट्रांसलेटर की भर्ती के लिए करीब पंद्रह सौ अभ्‍यर्थियों ने आवेदन किया था।

-सिफारिशों के बीच अभ्‍यर्थी दस से पंद्रह लाख रुपए तक देने को तैयार थे।

-अनुज ने योगेश यादव से लिखित परीक्षा के लिए संपर्क किया तो इंटरव्यू के नाम पर दस लाख रुपए मांगे।

-मामले की शिकायत अनुज के चाचा ने सीबीआई टीम से की।

-इसके बाद मौके पर जाकर सीबीआई ने सेनेटरी इंस्पेक्टर योगेश को दबोच लिया।

-सीबीआई टीम के अनुसार योगेश ने किसी अधिकारी या कर्मचारी का नाम नही लिया है।

जांच के लिए गई थी कॉपी

-कैंट बोर्ड भर्ती लिखित परीक्षा की कॉपी मंगलवार को जांच होने के लिए बाहर गई थी।

-इंटरव्यू में पैसा जाना है ये कहकर इंस्पेक्टर ने अभ्‍यर्थी को बुलाया था।

-सीबीआई ने कैंट बोर्ड आॅफिस में जांच पड़ताल करने के बाद इंस्पेक्टर के सरकारी क्वार्टर में पूछताछ की।

Next Story