Top

जालौन में रिटायर्ड अधिकारी से ठगी, बैंक से ऐसे उड़ा लिए 7 लाख रुपए

जालौन अधिकारी बनकर बैंक डिटेल की जानकारी लेने के बाद फायर ब्रिगेड से रिटायर हुए सब इंस्पेक्टर के खाते से सात लाख रुपए पार किए ।

Afsar Haq

Afsar HaqReporter Afsar Haq

Published on 23 May 2021 1:26 PM GMT

fraud with Retired Inspector Lalluram
X

रिटायर्ड दरोगा लल्लूराम (फोटो : सोशल मीडिया )

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जालौन: जालौन अधिकारी बनकर बैंक डिटेल की जानकारी लेने के बाद फायर ब्रिगेड से रिटायर हुए सब इंस्पेक्टर (Sub Inspector retired from fire brigade) के खाते से सात लाख रुपए पार किए (7 lakh ) । जब सुबह उसने एटीएम से स्टेटमेंट निकाला तो खाते में रुपए ना होने से रिटायर फायर ब्रिगेड के होश उड़ गए । जिसके बाद उन्होंने परिजनों को पूरे मामले से अवगत कराया और थाने में पहुंचकर पुलिस को मामले की जानकारी दी। मामले की जांच में जुटी पुलिस ने कार्रवाई का भरोसा दिया।

बता दे, जालौन के एट थाना क्षेत्र के ग्राम अमीटा निवासी फायर ब्रिगेड से रिटायर्ड सब इंस्पेक्टर लल्लूराम ने पुलिस को जानकारी देते हुए बताया कि 21 मई को शाम के वक्त बैंक अधिकारी के नाम से फोन आया, उसने मेरे खाते की जानकारी देते हुए कहा कि आपका खाता किसी कारणों से बंद हो गया है । आप के फोन पर एक ओटीपी नंबर आया हुआ है आप उसको मुझे तत्काल फोन पर ही नंबर की जानकारी दे दें। जिससे आपके खाते को सुचारु रुप से चालू रखा जा सके और आपकी पेंशन का भी भुगतान किया जा सके।

जांच में जुटी पुलिस

अधिकारी के झांसे में आकर मैंने अपना फोन पर आया हुआ ओटीपी नंबर बता दिया और सुबह जब 22 अप्रैल को बैंक में जाकर पेंशन आने की जानकारी के लिए जब मैंने मिनी स्टेटमेंट निकाला तो उसमें से सात लाख रुपए खाते से गायब मिले। यह जानकारी मैंने अपने परिजनों को जाकर घर पर बताया तो सभी लोग परेशान हो गये और दोबारा उस नंबर पर फोन करने की कोशिश की तो वे स्विच ऑफ जा रहा था। 23 मई को मैंने पूरी जानकारी पुलिस को दी। रिटायर्ड दरोगा लल्लू राम ने बताया कि वह उरई में दमकल विभाग में उप निरीक्षक के पद पर तैनात थे और 31 मार्च 2016 में रिटायर होकर अपने परिवार के साथ घर पर रह रहा था और सारा रुपए फंड पेंशन और तनख्वाह वगैरा खाते में पड़ा हुआ था। वहीं पुलिस का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार करने की कोशिश की जाएगी।

Monika

Monika

Next Story