Top

Jhansi Crime News: शराब ने घोला जिंदगी में जहर, लूट-चोरी व आत्महत्या की बढ़ी वारदातें

शराबी कब अपराध की दुनिया में कदम रख देते हैं, उनको एहसास तक नहीं होता। यही वजह है, छोटी-छोटी वारदातों से लेकर संगीन अपराध तक बढ़ रहे हैं।

B.K Kushwaha

B.K KushwahaReport B.K KushwahaVidushi MishraPublished By Vidushi Mishra

Published on 20 Jun 2021 5:02 PM GMT

Every year around 80 to 100 families are facing rifts in relationships due to alcohol.
X

शराब (फोटो- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Jhansi Crime News: समाज में फैली शराब के नशे की बुराई न सिर्फ युवाओं के शरीर को खोखला कर रही, बल्कि उनके भविष्य को अंधकार कर अपराध के दलदल में धकेल रही है। शराब से कई परिवार भी तबाह हो रहे हैं। नशे में मारपीट, चोरी, लूटपाट और आमहत्या तक की घटनाओं हो रही हैं।

शराबी कब अपराध की दुनिया में कदम रख देते हैं, उनको एहसास तक नहीं होता। यही वजह है, छोटी-छोटी वारदातों से लेकर संगीन अपराध तक बढ़ रहे हैं। जैसे-जैसे समाज में शराबखोली बढ़ती जा रही है, वैसे ही क्राइम का ग्राफ भी साल-दर-साल बढ़ता जा रहा है।

शराब हर साल सैकड़ों जिंदगियां छीन रही है। अब फिर से शराब दुकान खुलते ही पाकिटमार, चाकूबाज और चोर-बदमाश का जमावड़ा बढ़ गया है। हैरतअंगेज है, शराब दुकानों पर बदमाशों की निगरानी का सिस्टम नहीं है।

हर साल 80 से 100 परिवार भी टूट रहे

जानकारी के मुताबिक शराब की वजग से नवदंपति से लेकर कई वर्षों तक घरेलू कलह के बीच जिंदगी गुजार चुके अधेड़ा उम्र के लोगों का परिवार भी टूट रहा है। हर साल करीब 80 से 100 परिवारों में शराब की वजह से रिश्तों में दरार आ रही है। पति-पत्नी से लेकर बाप-बेटे तक अलग हो रहे हैं। ऐसी भयावह स्थिति के बाद भी शराबखोरी या नशाखोरी को रोकने पुख्ता इंतजाम नहीं किया जा रहा है।

40 फीसदी क्राइम शराब के कारण

शराबखोरी का आलम यह है कि हर साल 30 से 40 फीसदी हत्या, हत्या की कोशिश, लूट, मारपीट, बलवा और आत्महत्या जैसी वारदातें शराब को लेकर या शराब के नशे में होती हैं। कई बार नशेड़ियों का कहर परिजनों पर बरसता है। यही नहीं, परिजनों के बीच हत्या जैसी गंभीर वारदात भी इसी वजह से हो जाती है। इसके बाद भी शराब पर प्रतिबंध नहीं लगाया जा रहा है।

फोटो-सोशल मीडिया

आखिर कब होगा इन घटनाओं का पर्दाफाश

रक्सा थाना क्षेत्र में जेवरात लूट, सीपरी बाजार थाना क्षेत्र में एसबीआई बैंक के पास से डिक्की तोड़कर ढाई लाख कैश, तुलसी होटल के पीछे छह मकानों में चोरी, मोंठ के शाहजहांपुर बस स्टैंड के पास किराना व्यापारी से ढाई लाख कैश लूटने, गुरसरांय में आठ मकानों में चोरी, बैंक के पास सवा लाख रुपया चोरी, कोतवाली थाना क्षेत्र में सर्राफा बाजार में हुई व गरौठा में लूटपाट की वारदातें शामिल है। इन घटनाओं को काफी समय बीत चुका है।

अब तक 23 लोग कर चुकें है आत्महत्या

जिले में अब तक 23 लोग आत्महत्या कर चुके हैं। इनमें सबसे ज्यादा युवा शामिल है। कोतवाली, प्रेमनगर, नवाबाद, सीपरी बाजार, सदर बाजार, रक्सा, मऊरानीपुर, मोंठ व गरौठा थाना क्षेत्र में रहने वाले लोग शामिल है। युवा के अलावा कई ऐसी महिलाएं है जो घरेलू विवाद से दुखी होकर फाँसी लगाकर जान दे रही है।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story