Top

Jhansi Crime News: टूट रहे रिश्ते, बिखर रहा परिवार, पति-पत्नी के विवाद के बीच बच्चे हो रहे शिकार

Jhansi Crime News: झांसी में ही पिछले एक माह के दौरान कई घरेलू हिंसा के मामले सामने आए हैं, जिसमें पीड़ित महिलाओं की संख्या ज्यादा है।

B.K Kushwaha

B.K KushwahaReport B.K KushwahaChitra SinghPublished By Chitra Singh

Published on 2 July 2021 3:32 PM GMT

domestic violence
X

घरेलू हिंसा (कॉन्सेप्ट फोटो- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Jhansi Crime News: अपने बच्चों को बेहतर जिंदगी देने के लिए माता-पिता दिन रात एक किए हुए हैं। लेकिन भाग-दौड़ भरी इस जिंदगी में आपसी रिश्ते ही नहीं परिवार भी पीछे छूट रहे हैं। लगातार बढ़ती घरेलू कलह न केवल रिश्तों में दरार डाल रही है बल्कि अविश्वास भी भावना को भी बढ़ावा दे रही है। कहीं पत्नी पति द्वारा की जा रही घरेलू हिंसा का शिकार हो रही है, तो कहीं पति को ही पत्नी से खतरा बना हुआ है। बदलते इन घरेलू हालातों का शिकार उन बच्चों को भी होना पड़ रहा है, जिन पर माता-पिता ही नहीं पूरे देश की भी उम्मीदें टिकी होती है।

घरेलू कलह के ये मामले बढ़ते ही जा रही हैं, जो न केवल चिंतनीय है बल्कि दरक रहे सामाजिक ताने-बाने की ओर भी ईशारा कर रहे हैं। झांसी में ही पिछले करीब एक माह के दौरान झकझौर देने वाले ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जो पुलिस तक पहुंचे और इन्हें देख हर कोई सन्न भी रह गया। अधिकतर समय महिलाएं ही घरेलू हिंसा (Domestic Violence) की शिकार होती रही है, लेकिन बदलते समय हालात में कई ऐसे मामले भी सामने आए हैं, जिनमें महिलाओं पर ही परिवार को बर्बाद करने के संगीन आरोप लगे हैं। बढ़ते कलह के आगे आत्महत्या जैसे कदम भी आसानी से उठाए जाने लगे हैं।

हाल ही में सामने आए कुछ मामले

केस-1

सीपरी बाजार थाना क्षेत्र के एक गांव से महिला स्वजनों के साथ पुलिस तक पहुंची, जहां गुहार लगाई कि उसके पति बेवजह मारपीट करते हैं। उसके स्वजनों को भी गाली-गलौज करते व धमकी देते हैं। अब वह पति द्वारा की जाने वाली मारपीट व दुर्व्यवहार सहन नहीं कर सकती। उसे जान से मारने की धमकी दी जा रही है। उसे जान का खतरा बना हुआ है। पुलिस ने दोनों पक्षों को समझाकर मामला शांत करवा दिया।

केस -2

सीपरी बाजार थाना क्षेत्र की ही एक महिला ने पुलिस को गुहार लगाई कि पांच दिन पहले उनके बेटे के साथ पुत्रवधु ने स्वजनों के साथ घर में घुसकर ही मारपीट की। वह बच्चों को भी मारना चाहती है। एक बच्चे को बेचने का प्रयास किया, जिसे किसी तरह बचा लिया था। पुत्रवधु से उसके बेटे को खतरा बना हुआ, जिसके चलते ही वह घर से गायब है और उनका कोई सुराग नहीं लग रहा।

केस-3

सीपरी बाजार थाना क्षेत्र की एक महिला घरेलू कलह से परेशान होकर अपनी जान देने के लिए राजघाट नहर पहुंची, लेकिन वहां मौजूद लोगों ने उसे बचा लिया। प्रारंभिक तौर पर पूछताछ में महिला ने माना कि वह अब घरेलू कलह की परेशानी के चलते जीना नहीं चाहती। बाद में महिला की काउंसिलिंग कराई गई।

महिला पुलिस-बच्चों के साथ पीड़िता

एक साल में 150 मामले

महिला हेल्पलाइन (Women Helpline) में अप्रैल 2020 से जून 2021 तक घरेलू हिंसा के करीब 150 मामले पहुंचे। हालांकि अनेकों मामलों में संबंधित अधिकारियों द्वारा आपसी सुलह करवा दी गई, लेकिन बढ़ते मामले चिंता बढ़ा रहे हैं।

महिला हेल्प लाइन से महिलाओं को दी जा रही है मदद: एसएसपी

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शिवहरी मीणा का कहना है कि हर थाने में महिला हेल्प लाइन खुली हुई है। प्रत्येक महिला हेल्प लाइन पर महिलाओं की शिकायतों का निस्तारण करने का पूरा प्रयास किया जा रहा है। महिला हेल्प लाइन में आने वाली शिकायतों में दोनों पक्षों को बुलाकर समस्याएं सुनी जाती है। इसके बाद उनकी समस्याओं का निदान करने का पूरा प्रयास किया जाता है।

एक-दूसरे की भावना समझनी होगी: संजना

सीपरी बाजार थाना क्षेत्र की महिला हेल्प लाइन प्रभारी संजना सिंह का कहना है कि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शिवहरि मीणा व एसपी सिटी विवेक त्रिपाठी के निर्देशन में महिला हेल्प लाइन में महिलाओं की समस्याओं को सुना जा रहा है। आए दिन पति-पत्नी के मामले ज्यादा आ रहे हैं। दोनों पक्षों को बुलाकर समझाने का पूरा प्रयास किया जा रहा है। उनका कहना है कि एक-दूसरे की भावना समझनी होगी। हर छोटी गलती को प्रतिष्ठा का सवाल नहीं बनना चाहिए। एक दूसरे की समझते हुए हमें आगे बढ़ना चाहिए। विवाद होने पर भी सकारात्मक दृष्टिकोण रखें।

Chitra Singh

Chitra Singh

Next Story