Top

रेमडेसिविर की कालाबाजारी, पुलिस ने मास्टरमाइंड को दबोचा, हुए बड़े खुलासे

मैसूर पुलिस ने एक नर्स को रेमडेसिविर की शीशी में खारा पानी और एंटीबायोटिक्स मिलाकर बेचने के आरोप में गिरफ्तार किया है।

Newstrack

NewstrackNewstrack Network NewstrackShreyaPublished By Shreya

Published on 20 April 2021 12:48 PM GMT

रेमडेसिविर की कालाबाजारी, पुलिस ने मास्टरमाइंड को दबोचा, हुए बड़े खुलासे
X

रेमडेसिविर इंजेक्शन  (फोटो साभार- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मैसूर: देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर (Corona Virus Second Wave) की दस्तक होने के बाद से ही संक्रमण की रफ्तार बेकाबू हो गई है। रोजाना 2-2.50 लाख से ज्यादा नए मामले (Covid-19 Cases) दर्ज किए जा रहे हैं। हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं, लेकिन इस वक्त मानवता को आगे रखने की बजाय कई लोग हालातों का फायदा उठाने में लगे हुए हैं।

ताजा मामला सामने आया है कर्नाटक (Karnataka) के मैसूर से, जहां पर रेमडेसिविर इंजेक्शन (Remdesivir Injection) के नाम पर कालाबाजारी (Black Marketing) की जा रही है। मैसूर में पुलिस (Mysuru Police) ने एक नर्स को रेमडेसिविर इंजेक्शन की शीशी में खारा पानी और एंटीबायोटिक्स मिलाकर बेचने के आरोप में गिरफ्तार किया है।

हालातों का फायदा उठा रहे गिरोह

जहां एक ओर देश में रेमडेसिवीर इंजेक्शन की किल्लत की शिकायतें सामने आ रही हैं, इस बीच ऐसा मामला सामने आना बेहद शर्मनाक है। जाहिर है कि कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार हो रही बढ़ोत्तरी के चलते इस जीवन रक्षक दवाई की भी मांग बढ़ गई है। ऐसे में कई लोग हालातों का फायदा उठाते हुए रेमडेसिवीर की कालाबाजारी करने लगे हैं।

गिरफ्तार हुए व्यक्ति की सांकेतिक तस्वीर (फोटो साभार- सोशल मीडिया)

साल 2020 से जारी है ये काम

जब मैसूर पुलिस को इस बारे में जानकारी हुई तो ये कार्रवाई की गई। इस बारे में मैसूर के पुलिस कमिश्नर चंद्रगुप्त ने जानकारी दी है। मिली जानकारी के मुताबिक, इस कालाबाजारी रैकेट का मास्टरमाइंड गिरिश नाम का एक व्यक्ति था, जो कि पेशे से नर्स है। यह काम वह बीते साल से ही कर रहा था। वो तमाम कंपनियों की रेमडेसिविर की बोतलों को रिसाइकिल करके एंटीबायोटिक्स और सलाइन से भरकर बाजार में बेचने का काम कर रहा था।

पुलिस कमिश्नर चंद्रगुप्त ने बताया कि हम इस रैकेट के असर का पता लगा रहे हैं और उसने कहां अपने स्टॉक की आपूर्ति की, इसका भी पता लगा रहे हैं। है। गिरिश के साथियों को भी पुलिस ने दबोच लिया है। बताया जा रहा है कि गिरिश जेएसएस अस्पताल में बतौर स्टाफ नर्स तैनात था।

Shreya

Shreya

Next Story