Top

खाकी बदनाम: दारोगा पर बदसलूकी का आरोप, पीड़ित को पिलाई पेशाब

Karnataka Police: पीड़ित ने बताया कि पुलिस स्टेशन में उसे बांध कर पीटा गया और फिर पूछताछ के दौरान उसे पेशाब पिलाई।

Network

NetworkNewstrack NetworkShivaniPublished By Shivani

Published on 23 May 2021 1:17 AM GMT

अंबेडकरनगर: जेल में कैदियों के बीच भिड़ंत, कई घायल, फोर्स तैनात
X

(सांकेतिक फोटो)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Karnataka Police: जनता की सेवक और रक्षक खाकी एक बार फिर सवालों के खेरे में आ गयी है। कर्नाटक पुलिस के एक सब इंस्पेक्टर पर ऐसा गंभीर आरोप लगा है तो न केवल पुलिस विभाग के लिए शर्मिंदगी की बात है बल्कि इंसानियत के लिए भी संवेदनशील मामला है। राज्य के चिकमंगलूर में पुलिस बर्बरता का मामला सामने आया है, जहां दारोगा पर एक दलित युवक को बेरहमी से पीटने और उसके पानी मांगने पर पेशाब पिलाने का आरोप है।

मामला कर्नाटक के चिकमंगलूर जिले का है, गोनीबीड़ू पुलिस स्टेशन के सब-इंस्पेक्टर पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं। आरोप लगाने वाले एक दलित युवक ने बताया कि पुलिस स्टेशन के अंदर उसे बाँध कर पीटा गया और फिर पूछताछ के दौरान उसे एक दारोगा ने पेशाब पिला दी।

दलित युवक से पुलिस ने की बर्बरता

पीड़ित ने मामले की शिकायत कर्नाटक के डीजीपी से की है। आरोप है कि गोनीबीड़ू पुलिस ने पुनीत नाम के दलित युवक को 10 मई को हिरासत में लिया था। बताया गया कि केवल कुछ ग्रामीणों की मौखिक शिकायतों के आधार पर उसे पुलिस कस्टडी में लिया गया। पुलिस के पुनीत को हिरासत में लेनी की वजह प्रेम प्रसंग बताया गया।

दरअसल, कहा जा रहा है कि पुनीत एक महिला से प्यार करता था लेकिन उनके इस प्रेम प्रसंग से गाँव के लोग नाराज थे और उन्होंने पुलिस से मौखिक शिकायत कर दी। इसके आधार पर पुलिस पुनीत को थाने ले आई।


हाथ-पैर बाँधकर पीड़ित को पीटा

पूछताछ के दौरान पुलिस ने पुनीत के हाथपैर बाँध कर काफी बर्बरता के साथ पीटा। पुनीत ने जब प्यास लगने पर पानी मांगा तो एक दारोगा ने उसपर पेशाब करवाई। चेतन नाम के दारोगा ने एक अन्य आरोपी को बुला कर पुनीत पर पेशाब करने को बोला। वहीं पुनीत ने और भी गंभीर आरोप लगाया कि जब उसने पुलिस से उसे छोड़ देने के लिए कहा था उन्होंने फर्श की पेशान चाटने की शर्त रखी।

पेशाब पीने की शर्त पर छोड़ा

पुनीत डर गया और थाने से बचने के लिए फर्श पर पड़ी पेशाब चाटने पर बाहर आ सका। इस दौरान पुलिस ने उसे जातिसूचक गाली दी। जिसके बाद पीड़ित ने शिकायत डीजीपी तक पहुंचाई। मामले की संवेधनशीलता को समझते हुए चिकमंगलूर जिले के एसपी ने तत्काल आरोपी सब-इंस्पेक्टर के खिलाफ विभागीय जांच के आदेश दिए। जिले के पुलिस कप्तान ने बताया कि फ़िलहाल आरोपी सब इंस्पेक्टर का दूसरे थाने में ट्रांसफर हो गया लेकिन मामले की जांच DYSP कर रहे हैं। आरोपी दारोगा पर केस भी दर्ज कर लिया गया है।

Shivani

Shivani

Next Story