Top

लखनऊ : पुलिसकर्मियों को चकमा दे हत्यारोपी विवेक केजीएमयू से फरार

उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जिले के जिला कारागार में हत्या के मामले में निरुद्ध एक बंदी के फरार होने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां बलरामपुर जिला कारागार के तीन पुलिसकर्मी चिकित्सीय परीक्षण के लिए बंदी को लेकर लखनऊ के केजीएमयू गए हुए थे और लापरवाही के चलते बंदी इन तीनों पुलिसकर्मियों को टॉयलेट जाने के बहाने चकमा देकर फरार हो गया।

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 22 Jan 2019 11:51 AM GMT

लखनऊ : पुलिसकर्मियों को चकमा दे हत्यारोपी विवेक केजीएमयू से फरार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जिले के जिला कारागार में हत्या के मामले में निरुद्ध एक बंदी के फरार होने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां बलरामपुर जिला कारागार के तीन पुलिसकर्मी चिकित्सीय परीक्षण के लिए बंदी को लेकर लखनऊ के केजीएमयू गए हुए थे और लापरवाही के चलते बंदी इन तीनों पुलिसकर्मियों को टॉयलेट जाने के बहाने चकमा देकर फरार हो गया। मामला प्रदेश राजधानी लखनऊ से जुड़ा था इसलिए हंगामा मचना तय था और आनन-फानन में बलरामपुर पुलिस अधीक्षक ने फरार बंदी की फोटो जारी कर उसे पकड़वाने या उसकी सूचना देने वाले को उचित पुरस्कार देने की घोषणा भी कर दी।

ये भी देखें : शाह का ममता पर तीखा हमला, बोले- बंगाल में लोकतंत्र का गला घोंटने वाली सरकार

क्या है मामला

लखनऊ के केजीएमयू हॉस्पिटल से बलरामपुर जिला कारागार में निरुद्ध विवेक तिवारी नाम का एक बंदी जो अपनी पत्नी की हत्या के मामले में 17-4-2018 से जेल में बंद था। पुलिस को चकमा देकर हॉस्पिटल से ही फरार हो गया। चिकित्सीय परीक्षण के लिए 12-01-2019 को बलरामपुर जेल पुलिस उसे लखनऊ के केजीएमयू ले गई थी। 22 तारीख को बेहद शातिराना ढंग से जिला कारागार बलरामपुर से साथ गए तीन पुलिसकर्मियों को टॉयलेट जाने के बहाने चकमा देकर केजीएमयू से ही फरार हो गया। विवेक के फरार होते ही पुलिसकर्मियों के हाथ पांव फूल गए ऐसे में बेबस पुलिसकर्मियों ने पुलिस अधीक्षक बलरामपुर को इसकी सूचना दी। जिसके बाद लखनऊ पुलिस से संपर्क कर बलरामपुर पुलिस ने फरार बंदी की फोटो जारी करते हुए उसे गिरफ्तार करवाने वाले को उचित इनाम की घोषणा भी कर दी है।

ये भी देखें :हिरासत में यातना रोकने वाले कानून पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

कौन है विवेक तिवारी

विवेक तिवारी पुत्र सहजराम तिवारी जोकि गहिरवा मजरे हड़पुर जनकपुर थाना महाराजगंज तराई जनपद बलरामपुर का रहने वाला है। 13-04-2018 में उसने अपनी पत्नी रेनू तिवारी की गोली मार कर हत्या कर दी थी। हत्या के बाद मृतका के परिजनों की तहरीर पर आरोपी व उसके सहयोगियों पर धारा 302, 120 बी आईपीसी के तहत मु0आ0स0-29/2018 दर्ज किया गया और उसे 17-4-2018 को जेल भेज दिया गया तब से वह जेल में ही विरुद्ध था।

पुलिस अधीक्षक बलरामपुर अमित कुमार ने बंदी विवेक तिवारी की अभिरक्षा मे तैनात तीनों पुलिसकर्मियों पर कड़ी कार्रवाई की बात कही है। साथ ही बलरामपुर व लखनऊ की पुलिस ने मिलकर फरार बंदी की तलाश शुरू कर दी है। संबंधित थाने से संपर्क कर उसके विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराया जा रहा है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story