Top

अगवा कांच कारोबारी संजय मित्तल मुक्त, एक अपहर्ता गिरफ्तार,बाकी की तलाश जारी

एसएसपी अजय कुमार पांडेय ने कहा कि दो बदमाश होमगार्ड यानी खाकी वर्दी में थे। लेकिन पुलिस ने सूचना मिलते ही नाकेबंदी कर कॉम्बिंग शुरू कर दी जिससे घबरा कर बदमाश एक चरी के खेत में मित्सेतल को छोड़ कर फरार हो गये।

aman

amanBy aman

Published on 19 May 2017 11:47 AM GMT

अगवा कांच कारोबारी संजय मित्तल मुक्त, एक अपहर्ता गिरफ्तार,बाकी की तलाश जारी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

फ़िरोज़ाबाद: कांच के सबसे बड़े उद्योगपति संजय मित्तल को पुलिस ने सात घंटे के भीतर अपहरणकर्ताों के चंगुल से मुक्त करा लिया है। अपराधी उन्हें शहर से 20 किलोमीटर दूर टूंडला के पास एक खेत से बरामद कर लिया। शुक्रवार दोपहर मित्तल का अपहरण हो गया था।

मुक्त हुए मित्तल

पुलिस के अनुसार एक कुख्यात बदमाश उस्मान को मौके से गिरफ्तार किया गया है, जबकि उसके पांच अन्य साथी फिलहाल फरार हो गये हैं, जिनकी तलाश की जा रही है।

गिरफ्तार बदमाश के पास से हथियार बरामद किये गये हैं। उससे कड़ी पूछताछ की जा रही है।

शहर के सबसे बड़े कांच उद्योगपति होने के नाते संजय मित्तल का अपहरण पुलिस के लिए चुनौती बन गया था।

एसएसपी अजय कुमार पांडेय ने कहा कि दो बदमाश होमगार्ड यानी खाकी वर्दी में थे। लेकिन पुलिस ने सूचना मिलते ही नाकेबंदी कर कॉम्बिंग शुरू कर दी जिससे घबरा कर बदमाश एक चरी के खेत में मित्तल को छोड़ कर फरार हो गये।

बता दें कि शुक्रवार दोपहर करीब 12 बजे दिन में बेखौफ बदमाशों ने चूड़ी नगरी के एफएम ग्रुप के मालिक संजय मित्तल का फिल्मी अंदाज में अपहरण कर लिया था।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि बदमाश काले रंग की बिना नंबर वाली बाइक से आए थे। वारदात को अंजाम देने के बाद बदमाश अपनी बाइक घटनास्थल पर ही छोड़कर फरार हो गए।

फैक्ट्री से जा रहे थे घर

संजय मित्तल ने बताया कि वह अपनी फैक्ट्री नगला भाऊ से गणेश नगर स्थित अपने घर कार से जा रहे थे। इसी दौरान नगला भाऊ चौराहे पर घात लगाए बाइक सवार बदमाशों ने संजय मित्तल की कार को रुकवाया। मित्तल ने बताया कि वह घर से निकले ही थे तभी मेन रोड पर खाकी वर्दीधारियों ने उनकी गाड़ी को रोक लिया और अपने कब्जे में ले लिया। संजय ने कहा कि पुलिस की सक्रियता से उनकी जान बच गई।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story