Top

IMPACT: रायबरेली में हुई किडनैपिंग का यूपी पुलिस ने लिया संज्ञान, होगी कार्रवाई

यूपी में अपराधियों के हौसले कितने बुलंद हैं, इसकी मिसाल देने वाला एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र में हाईवे पर दिन दहाड़े कुछ बदमाशों ने एक युवक को पहले पीटा और फिर उसे किडनैप कर लिया। इस वारदात को वहां से गुजर रहे एक कार चालक ने मोबाइल कैमरे में कैद कर लिया। Newstrack.com में यह खबर चलने के बाद यूपी पुलिस ने इस मामले में संज्ञान लिया है और रायबरेली पुलिस को इस मामले में जानकारी जुटाकर त्वरित कार्रवाई करने को कहा है।

By

Published on 7 Sep 2016 3:00 PM GMT

IMPACT: रायबरेली में हुई किडनैपिंग का यूपी पुलिस ने लिया संज्ञान, होगी कार्रवाई
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रायबरेली: यूपी में अपराधियों के हौसले कितने बुलंद हैं, इसकी मिसाल देने वाला एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र में हाईवे पर दिन दहाड़े कुछ बदमाशों ने एक युवक को पहले पीटा और फिर उसे किडनैप कर लिया। इस वारदात को वहां से गुजर रहे एक कार चालक ने मोबाइल कैमरे में कैद कर लिया। Newstrack.com में यह खबर चलने के बाद यूपी पुलिस ने इस मामले में संज्ञान लिया है और रायबरेली पुलिस को इस मामले में जानकारी जुटाकर त्वरित कार्रवाई करने को कहा है।





क्या है पूरा मामला ?

घटना रायबरेली जिले के मिलएरिया थाना क्षेत्र के लखनऊ-इलाहाबाद हाईवे पर स्थित ओवर ब्रिज की है। जिस युवक को ये लोग पीट रहे हैं उसका नाम प्राशू शुक्ला है। बेखौफ बदमाश युवक को मारपीट कर जबरन अपनी गाड़ी में ले जाते हैं। एक सुनसान स्थान पर ले जाकर उसे बुरी तरह पीटते हैं। बाद में उसे मरा हुआ समझकर नहर के किनारे फेंक जाते हैं।

घायल युवक को जब होश आया तो उसने राहगीरों को आवाज लगाई। लोगों ने उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। यह घटना एक सप्ताह पहले की है। पीड़ित का कहना है कि पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है।

एफआईआर में अपहरण नहीं

मारपीट और किडनैपिंग का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने मामले में लीपापोती शुरू कर दी है। कोई भी आलाधिकारी इस मामले में कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। इस घटना को लेकर लिखी गई एफआईआर ने खुद पुलिस को कठघरे में खड़ा कर दिया है। एफआईआर में पुलिस ने किडनैपिंग का जिक्र तक नहीं किया है।

सीएम कर रहे बैठक, कोस रहे थे लोग

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बुधवार को ही जिलों के कप्तान और कलेक्टर को बुलाकर कानून व्यवस्था सुधारने को कहा। लेकिन ठीक उसी समय लोग इस वीडियो को देखकर यूपी की कानून-व्यवस्था को कोस रहे थे।

Next Story