Top

लैकफेड के पूर्व महाप्रबंधक पर मनी लांड्रिग के तहत केस चलाने की मांग पर आदेश सुरक्षित

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 23 Jan 2018 3:49 PM GMT

लैकफेड के पूर्व महाप्रबंधक पर मनी लांड्रिग के तहत केस चलाने की मांग पर आदेश सुरक्षित
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : ईडी के विशेष जज नरेंद्र कुमार जौहरी ने लैकफेड घोटाले केस में सजा पा चुके इसके पूर्व महाप्रबंधक ब्रह्म प्रकाश सिंह पर घोटाले की रकम से करोड़ों की संपति बनाने के आरोप में मनी लांड्रिग के तहत मुकदमा चलाने की मांग वाली ईडी की एक अर्जी पर मंगलवार को अपना आदेश सुरक्षित कर लिया।

ईडी के विशेष वकील कुलदीप श्रीवास्तव के मुताबिक 21 फरवरी, 2012 को लैकफेड घोटाला मामले की एफआईआर थाना हुसैनगंज में दर्ज हुई थी। लैकफेड के एमडी (प्रशासन) पीएन सिंह यादव ने यह एफआईआर दर्ज कराई थी। इस मामले में अन्य अभियुक्तों के साथ ही लैकफेड के पूर्व एमडी ब्रह्म प्रकाश सिंह को भी सजा हुई थी।

हालांकि वह हाईकोर्ट से जमानत पर रिहा हैं। कहा गया कि इसी मामले में 13 सितंबर, 2012 को ईडी ने भी एक सूचना दर्ज की। ईडी ने लैकफेड घोटाले के मुल्जिमों के खिलाफ मनी लांड्रिग एक्ट के तहत सूचना दर्ज कर अपनी जांच शुरु की। मालुम हुआ कि लैकफेड के पूर्व एमडी ब्रह्म प्रकाश सिंह पर एक करोड़ 63 लाख छः हजार 117 रुपए के गबन का इल्जाम है।

जांच में यह सामने आया कि गबन के इस रकम से उसने लखनऊ के नौबस्ताकलां में एक कृषि योग्य भूमि व खरगापुर तथा इंदिरानगर में भी एक-एक मकान बनाया है। साथ ही अपने परिवालों के खाते में रकम भी जमा की है। वर्ष 2015 में ईडी ने इन सभी संपतियों को जब्त कर लिया।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story