Top

VIDEO: सीतापुर में पिटने से बचे एसपी साहब, वकीलों ने पीआरओ को धुना

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 31 Oct 2018 3:29 PM GMT

VIDEO: सीतापुर में पिटने से बचे एसपी साहब, वकीलों ने पीआरओ को धुना
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: योगी सरकार में पुलिस पर आम जनता का गुस्‍सा रह रहकर निकल रहा है। ताजा वाकया बुधवार को जिला जज के कार्यालय का है। यहां वकीलों ने एसपी सीतापुर प्रभाकर चौधरी के पीआरओ को जमकर धुना। इतना ही नहीं पीआरओ को मां-बहन की गालियां देते हुए कुछ वकील एसपी सीतापुर पर भी हमलावर हुए। वकीलों की करतूत वीडियो में कैद हो गई है। सीतापुर का ये वीडियो वायरल होते ही उच्‍च अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है।

ये भी देखें:हाशिमपुरा नरसंहार: PAC के 16 पूर्व जवानों को उम्रकैद, 42 लोगों की हुई थी हत्या

सीतापुर क्‍लब से अवैध कब्‍जा हटाने गई थी पुलिस

एसपी प्रभाकर चौधरी के अुनसार नजूल की जमीन पर बने सीतापुर क्लब से अवैध कब्जेदारी हटाने के बाद जमकर हंगामा हो गया। यह विवाद क्लब के अध्यक्ष अधिवक्ता ओमप्रकाश गुप्त व सचिव रामपाल को हिरासत में लेने के बाद शुरू हो गया। जब मामला कहचरी पहुंचा तो वहां पर रार और बढ़ गई। साथी की गिरफ्तारी से आक्रोशित वकीलों ने न केवल एसपी का मोबाइल छीन लिया बल्कि दारोगा प्रदीप पांडेय को भी जमकर धुन दिया। इस दौरान शब्दों की गरिमा भी तार-तार हो गई।

ये भी देखें:बिहार में ‘सम्मानजनक’ समझौता चाहते हैं उपेन्द्र कुशवाहा, बने रहेंगे NDA का हिस्सा

डीएम की अगुवाई में चला बुलडोजर

बुधवार दोपहर करीब सवा एक बजे डीएम शीतल वर्मा ने एसपी प्रभाकर चौधरी संग पुलिस व प्रशासन की टीमों को लेकर सीतापुर क्लब पर अभियान चलाया। नजूल की जमीन पर बने क्‍लब को खाली कराया जाने लगा। वहां पर शराब, बीयर और ताश के पत्ते बरामद हुए। जिसके बाद क्लब के अध्यक्ष के साथ साथ सचिव को पुलिस ने हिरासत में लिया। दोनों को शहर कोतवाली लाया गया। साथ ही क्लब में चल रहे कैफे को भी बुलडोजर से गिरा दिया गया।

[playlist type="video" ids="285346"]

वकीलों को हिरासत में लेने की खबर फैली तो भाजपा जिलाध्यक्ष समेत कई पदाधिकारी व अधिवक्ता कोतवाली पहुंच गए। वहां से उन्‍होंने जबरन अध्यक्ष व सचिव को छुड़ा लिया गया। यही नहीं, साथी की गिरफ्तारी से भड़के बार एसोसिएशन के पदाधिकारी डीएम के पास ज्ञापन देने पहुंचे। वहां पता चला कि डीएम व एसपी जिला जज के पास कचेहरी पहुंच रहे हैं। उधर, अधिवक्ताओं ने लालबाग चौराहे पर प्रदर्शन किया और जिला जज के चैंबर के पास पहुंच गए।

ये भी देखें:वाराणसी में शूटआउट के बाद उठ रहे हैं सवाल, मॉल के अंदर कैसे पहुंचा असलहा ?

जज के चैंबर में हुआ हंगामा

यहां पुलिस को देखकर अधिवक्ता हंगामा करने लगे। इस दौरान अधिवक्ताओं ने एसपी प्रभाकर चौधरी का मोबाइल छीन लिया और उनके दारोगा प्रदीप पांडेय व विनोद को भी पीट दिया। अधिवक्ताओं का प्रदर्शन देख एसपी जिला जज के चैंबर में चले गए। जहां जिला जज की मौजूदगी में एसपी व बार एसोसिएशन के प्रतिनिधि मंडल के बीच सुलह को लेकर वार्ता हुई, लेकिन बात नहीं बनी।

वकीलों के ऊपर दर्ज होगा मुकदमा

एसपी प्रभाकर चौधरी का कहना है कि कब्जेदारों के खिलाफ केस दर्ज कर कार्रवाई होगी। कचहरी में मोबाइल छीनने की कोशिश और पुलिस कर्मियों से मारपीट में भी केस दर्ज किया जाएगा।

तीन साल का था पट्टा

सिटी मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश उपाध्याय का कहना है कि सीतापुर क्लब का तीन साल का पट्टा था। जिसकी समय सीमा खत्म हो गई। इस वजह से अवैध कब्जेदारों को हटाया है। इसी को लेकर हंगामा हुआ है।

[playlist type="video" ids="285268"]

sudhanshu

sudhanshu

Next Story