Top

लखनऊ : एसटीएफ, फारेस्ट और पुलिस ने बरामद किए प्रतिबंधित पक्षी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 6 Jan 2018 11:51 AM GMT

लखनऊ : एसटीएफ, फारेस्ट और पुलिस ने बरामद किए प्रतिबंधित पक्षी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : यूपी एसटीएफ, फारेस्ट और चौक पुलिस ने राजधानी में अवैध रूप से बेचे जा रहे प्रतिबंधित पक्षी विक्रेताओं के यहां छापेमारी की कार्रवाई की है। एसटीएफ और फारेस्ट की टीम ने स्थानीय पुलिस के साथ छापेमारी की कार्रवाई में 20 तरह के प्रतिबंधित पंछियों को बरामद किया है। बरामद पक्षियों को जू भेजा गया है।

अधिकारियों की माने तो काफी समय से चल रहे अवैध कारोबार की खबर मिल रही थी। डीएफओ अयोध्या प्रसाद की माने तो स्थानीय पुलिस की मदद से लाखों के प्रतिबंधित पंछियो को बरामद किया गया है। व्यापर करने वाले 5 व्यक्तियों को भी पुलिस ने हिरासत में लिया, जिन से पूछताछ की जा रही है। इससे पहले कार्रवाई शुरू होने से पहले ही कई व्यापारी प्रतिबंधित पक्षियों के साथ फरार होने में कामयाब रहे हैं।

बड़ी संख्या में तीतर बरामद किए गए हैं

एक तीतर की कीमत 300 रुपया बताई गई

देसी बटेर भी हुई बरामद

जंगली तोते बरामद हुए हैं

पुलिस और फारेस्ट की टीम आने से पहले भागे व्यापारी

घरों में रखे जाते थे पक्षी

ग्राहक की डिमाण्ड पर आते थे घरों से पक्षी

ठण्ड में तीतर और बटेर की सब से अधिक थी डीमांड

जंगलों से शिकार और जाल के जरिए लाए जाते थे पक्षी

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story