Top

नोटबंदी से परेशान कार ब्रोकर ने रेलवे ट्रैक पर किया सुसाइड, ढाई घंटे बाद पहुंची जीआरपी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 15 Jan 2017 1:44 PM GMT

नोटबंदी से परेशान कार ब्रोकर ने रेलवे ट्रैक पर किया सुसाइड, ढाई घंटे बाद पहुंची जीआरपी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: कार ब्रोकर का बिजनेस करने वाले वाले एक युवक ने रेलवे ट्रैक पर ट्रेन से कटकर सुसाइड कर लिया। नोटबंदी के बाद से उसका बिजनेस पूरी तरह से चौपट हो गया था, जिसकी वजह से वह परेशान था। घटना के बाद जब स्थानीय लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी तो ढाई घंटे तक जीआरपी नहीं पहुंची। रेलवे ट्रैक पर शव पड़ा रहा और कई ट्रेनें गुजरती रहीं।

क्या है पूरा मामला ?

-नौबस्ता थानाक्षेत्र स्थित देवकी नगर में रहने वाले वाले फैज मोहम्मद (30) पुरानी कारों को बेचने खरीदने का बिजनेस करते थे।

-इनके परिवार में पत्नी अर्सिता बेगम डेढ़ साल का बेटा रेहान ,पिता फैजान अहमद ,भाई फैजल ,मोनू और अज्जू के साथ रहते थे।

-फैज ने पहले अपनी कार जूही ढाल के नीचे किनारे खड़ी की और फिर रेलवे ट्रैक पर जाकर अपना सिर रख दिया।

-ट्रेन निकलने के बाद फैज का सिर धड़ से अलग हो गया।

घटना के बाद क्या बताया मृतक के भाई ने ?

-फैजल ने बताया कि फैज की सुपर मोटर के नाम से शॉप थी। फैज का पुरानी कारो को खरीदने और बेचने का काम करता था।

-नोटबंदी के बाद से उनका बिजनेस चौपट हो गया था। इसकी वजह से वह परेशान थे और कई लोगो की उधारी भी थी।

-वह बिजनेस को लेकर परेशान रहते थे। इतना ज्यादा मानसिक तनाव था कि दो दिन पहले वह घर पर सीढ़ियों से गिर पड़े थे।

-इसकी वजह से उनको काफी चोट भी लग गई थी और सिर पर अभी भी उनके पट्टी बंधी थी।

-फैजल ने फैज को इस बिजनेस में लगभग 10 लाख से ज्यादा का नुकसान हुआ था।

स्थानीय लोगों का क्या है कहना ?

-स्थानीय रवि सिंह के मुताबिक, यह शव लगभग ढाई घंटे तक रेलवे ट्रैक पर पड़ा रहा।

-इसकी जानकारी जब जीआरपी को दी गई तो इसके बाद भी वह नही आई।

-इसी ट्रैक पर इतनी देर में आधा दर्जन से अधिक ट्रेनें गुजर गईं।

-जब गैंग मैन से ट्रैक चेंज कराने का निवेदन किया गया तब इस ट्रैक से ट्रेनों का निकलना बंद हुआ।

-इसके बाद जीआरपी घटना स्थल पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

-इस घटना की जानकारी परिजनों को गुड्डू ने दी। गुड्डू का कहना है कि इस परिवार को मैं कई साल से जनता हूं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story