Top

Mathura Crime News: युवक का बहता रहा खून, पुलिस की पूछताछ ने ले ली जान

Mathura Crime News: मथुरा से पुलिस की संवेदनहीनता का वीडियो वायरल हो रहा है। गोली लगने से घायल हुए युवक से पुलिस घंटो पूछताछ करती रही। युवक के पैर से खून निलकता रहा और पुलिस साक्ष्य जुटाने में लगी रही।

Nitin Gautam

Nitin GautamReport Nitin GautamVidushi MishraPublished By Vidushi Mishra

Published on 20 Jun 2021 2:23 PM GMT

Video of police insensitivity from Mathura is going viral.
X

घायल युवक की मौत (फोटो-सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Mathura Crime News: मथुरा से पुलिस की संवेदनहीनता का वीडियो वायरल हो रहा है। गोली लगने से घायल हुए युवक से मौके पर घंटो पूछताछ करती रही पुलिस। युवक के पैर से खून निलकता रहा और पुलिस साक्ष्य जुटाने में लगी रही। करीब ढाई घंटे बाद युवक को पुलिस ने अस्पताल में भर्ती कराया। लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।

मथुरा में जैँंत चौकी के जंगल में एक व्यक्ति के लगी गोली के बाद उपचार के दौरान मौत हो गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने मौके से तमंचा, कारतूस और बीयर की केन बरामद की है। वहीं व्यक्ति के मरने से पहले की एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इसमें मृतक का ससुरालिजनों ने विवाद बताया जा रहा है। घटना से क्षेत्र में हड़कंप मच गया है।

पुलिस अभी यह तय नहीं कर पाई है कि आखिर व्यक्ति की हत्या हुई है या फिर यह एक आत्महत्या है। इसे लेकर संशय बना हुआ है। उधर परिजन युवक की मौत के लिए पुलिस को जिम्मेदार ठहरा रहे है । परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने घायल को यदि समय पर भर्ती कराया होता तो शायद युवक की मौत नही हुई होती ।

घायल से पुलिस पूछताछ

हम आपको पूरा मामला बताये उससे पहले यह वायरल वीडियो देखिये जिसमे जमीन पर एक युवक घायल हालात में पड़ा हुआ है । युवक के पैर से खून निकल रहा है । युवक दर्द से कराह रहा है लेकिन पुलिस का अमानवीय चेहरा भी दिखाई दे रहा है ।

जहां पुलिस गोली लगी व्यक्ति से पूछताछ करने में व्यस्त है वहीं दूसरी ओर घायल के पैर से खून निकल रहा है काफी देर बाद पुलिस घायल को उपचार के लिए अस्पताल लेकर पहुंची जहाँ उसकी उपचार के दौरान मौत हो गई।

मामला शनिवार रात करीब आठ बजे वृंदावन कोतवाली क्षेत्र की चौकी जैंत के जंगल में झाड़ियों के बीच का है , जहां ग्राम जैत निवासी मौनू पुत्र दिगंबर घायलवस्था में खून से लथपथ पड़ा हुआ था। किसी राहगीर की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल को अस्पताल भिजवाने की जगह मौके पर काफी देर तक यही करती रही । जब तक घायल अस्पताल पहुँचा जब तक उसकी हालत गंभीर होती चली गयी और बाद में उसकी मौत हो गयी ।

शव परिजनों को सौंप

पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया है। वहीं पुलिस को मौके से एक तमंचा, कारतूस, और बीयर केन मिली है। लेकिन पुलिस अभी तक यह पता नहीं कर पाई कि आखिर व्यक्ति की हत्या हुई है या फिर आत्महत्या। पुलिस इसके लिए मृतक के परिजनों की प्रतिक्रिया का इंतजार कर रही है। शनिवार शाम की घटना होने के बाद अभी तक मामला दर्ज नही हुई है ।

वहीं इस घटना में एक नया चौकाने वाला मोड़ तब आ गया जब मृतक की मौत से पहले की वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। जिसमें वह कह रहा है कि उसका ससुराली पक्ष से 2020 से झगड़ा चल रहा है । मृतक के परिजन की ओर से अभी तक कोई बयान इस घटना को लेकर नहीं आया है। वहीं पुलिस मृतक के परिजनों की प्रतिक्रिया का इंतजार कर रही है।

इस मामले में परिजनों का आरोप अपनी जगह हैं लेकिन वीडियो के सामने आने के बाद इतना तो तय है कि मौकाए वारदात पर पुलिस का यह व्यवहार अपने आप मे बता रहा है कि पुलिस ने इस मामले में कितनी संजीदगी बरती है।

वीडियो को देख ऐसा लग रहा है मानो घायल युवक न जाने कितना बड़ा अपराधी हो जिबकी सुप्रीम कोर्ट की रूलिंग भी यही कहती है कि यदि बड़े से बड़े अपराधी भले ही पुलिस इंकॉन्त्रर में घायल हुए हो उसको जल्द से जल्द अस्पताल में उपचार मिलना चाहिए, ताकि उसकी जान बच सके। अब देखना होगा कि पुलिस के अधिकारी इस मामले में क्या कार्यवाही करते है । या फिर मृतक के परिजन न्याय के लिए यू ही दर दर भटकते रहेंगे ।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story