Top

टीचर ने लगाया मोबाइल चोरी का आरोप, सदमे में फांसी लगाकर दे दी जान

माता-पिता से पहले शिक्षकों का आदर करने की प्रथा हर जगह है, लेकिन यहां कुछ ऐसा हुआ जिसने एक बच्ची की जिंदगी उससे छीन ली। डिप्रेशन में आकर बच्ची ने घर में फांसी ली और हमेशा-हमेशा के लिए दुनिया से रुखसत हो गई। दरअसल उस बच्ची पर उसी की स्कूल टीचर ने मोबाइल चोरी का आरोप लगाया था, जिसका सदमा बच्ची सहन नहीं कर पाई। बच्ची की मौत के बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 7 Dec 2016 4:12 PM GMT

टीचर ने लगाया मोबाइल चोरी का आरोप, सदमे में फांसी लगाकर दे दी जान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा: माता-पिता से पहले शिक्षकों का आदर करने की प्रथा हर जगह है, लेकिन यहां कुछ ऐसा हुआ जिसने एक बच्ची की जिंदगी उससे छीन ली। डिप्रेशन में आकर बच्ची ने घर में फांसी ली और हमेशा-हमेशा के लिए दुनिया से रुखसत हो गई। दरअसल उस बच्ची पर उसी की स्कूल टीचर ने मोबाइल चोरी का आरोप लगाया था, जिसका सदमा बच्ची सहन नहीं कर पाई। बच्ची की मौत के बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

क्या है पूरा मामला ?

-आरती कुमारी सेक्टर-15 स्थित नयाबांस में अपने पिता कामेश्वर नायक और एक बड़े भाई के साथ रहती थी।

-अच्छे भविष्य की कामना के लिए उन्होंने आरती का एडमिशन राजकीय कॉलेज, अशोक नगर में करा दिया।

-13 साल की आरती 5वीं क्लास की स्टूडेंट थी।

-चार दिन पहले उसकी क्लास की टीचर ईमा का मोबाइल फोन चोरी हो गया था।

-टीचर ईमा ने चोरी का आरोप आरती पर लगाया।

-आरती बार-बार मना करती रही, लेकिन टीचर ईमा नहीं मानीं।

-आरती की शिकायत स्कूल की प्रिंसिपल से भी गई।

यह भी पढ़ें ... नशीला पदार्थ खिलाकर मासूम का रेप, 9 घंटे तक तड़पती रही बच्ची

सहन ना कर पाई सदमा

-आरती के पिता कामेश्वर प्रिंसिपल से मिले और मोबाइल चुराने की बात का खंडन किया।

-यह बात एक सदमें की तरह आरती के जहन में बस गई।

-आरती डिप्रेशन में चली गई।

-वह तीन दिनों से न तो कुछ खा रही थी और न ही किसी से बात कर रही थी।

-आरती ने बुधवार दोपहर ढाई बजे कमरे में पंखे से फांसी लगा ली।

-फांसी पर लटकता देख पिता आरती के पिता कामेश्वर डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल लेकर पहुंचे

-जहां एक घंटे के इलाज के बाद आरती ने दम तोड़ दिया।

छोड़ गई दो भाइयों को

-आरती के पिता कामेश्वर ने बताया कि आरती के दो बड़े भाई हैं।

-एक झारखंड में पढ़ता है जबकि दूसरा यहीं उसके साथ रहता है।

-वह उसे दो महीने पहले ही झारखंड लेकर जाना चाहते थे।

-उनकी परचून की दुकान है।

-जिससे घर का गुजारा चलता था लेकिन अब घर में मातम है।

क्या है पुलिस का ?

-एसपी सिटी दिनेश यादव ने बताया कि मामला गंभीर है।

-इसकी पूरी तरह से जांच की जाएगी।

-परिजनों को इंसाफ मिलेगा।

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story