Top

मेरठ: महापौर के भाई की एजेंसी के सेल्समैन पर बदमाशों ने बरसाईं गोलियां

By

Published on 2 Aug 2017 6:39 AM GMT

मेरठ: महापौर के भाई की एजेंसी के सेल्समैन पर बदमाशों ने बरसाईं गोलियां
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मेरठ: गंगानगर थाना क्षेत्र के एल ब्लॉक में एचपी गैस एजेंसी के सेल्समैन की बदमाशों ने गोलियां बरसाकर हत्या कर दी। वारदात के बाद बदमाश आसानी से फरार हो गए। बदमाशों ने वहां मौजूद तीन कर्मचारियों पर गोलियां नहीं चलाई। बदमाशों ने उन्हें धमकी देकर चुप रहने का कहा। तीनों कर्मचारियों को हिरासत में लेकर पुलिस पूछताछ में जुटी है।

एजेंसी में घुसकर बरसाईं गोलियां

-बुलंदशहर के स्याना थाना क्षेत्र के गांव रूखी निवासी 38 वर्षीय अनिल पुत्र लख्मीचंद गंगानगर आई ब्लॉक में परिवार के साथ रहता था।

-महापौर के भाई हरिकांत आहलुवालिया के भाई रमन की गैस एजेंसी में सेल्समैन था। बदमाश बाइक से गैस एजेंसी पर पहुंचे।

-तीन बदमाशों ने गैस एजेंसी में घुसकर अनिल को गालियां दी। गालियां देते हुए गोलियां बरसा दी। बदमाशों ने अनिल के सीने पर तीन गोलियां मारी हैं।

-अनिल को आनन-फानन में गंगानगर के देव अनंत अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

जांच में जुटी पुलिस

-घटना स्थल पर पहुंचे एसपी देहात राजेश कुमार, सीओ सदर देहात श्रीराम अर्ज ने तीनों कर्मचारी सतेंद्र, शनि व चौकीदार प्रभु से पूछताछ की है। पुलिस के मुताबिक बदमाशों का टारगेट अनिल था।

-पुलिस तीनों कर्मचारियों के नंबरों की सीडीआर निकलवा रही है। हत्या के तार एजेंसी से जुडे बताए जा रहे हैं।

-वहीं परिजनों में अनिल की पत्नि शीतल और बडे भाई सुनील का कहना है कि उनकी किसी से कोई रंजिश नहीं है। उन्होंने ना ही किसी पर शक जताया है।

-पुलिस के मुताबिक एजेंसी पर कैश सुरक्षित मिला है। रंजिश को देखते हुए जांच की जा रही है।

क्या बोले कर्मचारी

-पुलिस पूछताछ में कर्मचारियों ने बताया कि अनिल करीब दो साल से एजेंसी पर काम करता था।

-पहले एजेंसी से चोरों ने रेगुलेटर से भरा कार्टन चोरी कर लिया था। ​इसकी भावनपुर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी।

-सैलरी कम होने की वजह से अनिल गोकुलपुर पुरूषोत्तम गैस एजेंसी पर काम करने लगा था। जिसके बाद सिलेंडर की चोरी होने लगी। अनिल को वापस एजेंसी की देख-रेख करने के लिए बुला लिया गया।

Next Story