Top

मोबाइल डीलर की गोली मार हत्या,पुलिस जांच हत्या या लूट के पेंच में फंसी

Admin

AdminBy Admin

Published on 7 March 2016 10:46 AM GMT

मोबाइल डीलर की गोली मार हत्या,पुलिस जांच हत्या या लूट के पेंच में फंसी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा: बाइक सवार बदमाशों ने मोबाइल कारोबारी मोहित चढ्ढा की रविवार को गोली मारकर हत्या कर दी। घटना के समय मृतक अपने साथी के साथ कार से सेक्टर-44 से इंद्रापुरम लौट रहा था। बदमाशों ने रास्ता पूछने के बहाने कारोबारी के सीने में गोली मार दी। पुलिस सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है। पुलिस इसे लूट का मामला मान रही है जबकि परिजन हत्या की आशंका जता रहे हैं।

क्या था मामला?

-मोहित चढ्ढा परिवार के साथ इंद्रापुरम के निति खंड प्रथम 359-ए में रहते थे। उनका सेक्टर-44 में मोबाइल का गोदाम है।

-रविवार रात वह मोबाइल के गोदाम से ग्रेटर नोएडा के परी चौक पर पेमेंट लेने जा रहे थे। साथ में उनका दोस्त अश्वनी त्यागी भी था।

-अश्वनी कार ड्राइव कर रहा था। सेक्टर-44 के टी-प्वाइंट पर बाइक सवार दो बदमाशों ने कार रुकवा पता पूछा।

-मोहित के कार का शीशा नीचे करते ही बदमाशों ने फायरिंग कर दी। गोली मोहित के सीने में लगी।

-बदमाशों ने कार पर करीब दो राउंड फायरिंग की लेकिन तब तक अश्वनी कार भगाने में सफल रहा।

-मोहित को अस्पताल ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।

-फिलहाल पुलिस अश्वनी से पूछताछ कर रही है।

मृतक मोबाइल डीलर का दोस्त अश्वनी त्यागी मृतक मोबाइल डीलर का दोस्त अश्वनी त्यागी

सेक्टर-18 में था सैमसंग का सर्विस सेंटर

-मोहित का सेक्टर-18 में सैमसंग मोबाइल का सर्विस सेंटर था।

-जिसे करीब डेड़ साल पहले मोहित ने बंद कर दिया था। इसके बाद वह दूसरी विदेशी कंपनियों और महंगे मोबाइल का डीलर बन गया।

-सेक्टर-44 में मोहित ने एक गोदाम ले रखा है।

-वहां विदेशी कंपनियों के मोबाइल रखता था, साथ ही उसकी ऑनलाइन बुकिंग भी करता था।

मृतक मोबाइल डीलर की कार मृतक मोबाइल डीलर की कार

खंगाली जा रही सीसीटीवी फुटेज:

-बदमाशों के सुराग के लिए सेक्टर-44 के टी-प्वाइंट से लेकर गोदाम तक के सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं।

-अश्वनी ने बताया कि बदमाशों ने नकाब पहन रखे थे।

हो सकती है आपसी रंजिश:

-एसएसपी किरण एस ने बताया कि प्राथमिक जांच रंजिशन हत्या के ऊपर ही टिकी है।

-लूट की वजह को भी नकारा नहीं जा सकता।

-मोहित के परिजनों और दोस्तों से पूछताछ की जा रही है।

क्या कहते हैं एडीजी :

इस बारे मे एडीजी (लॉ एंड आर्डर) दलजीत सिंह चौधरीमामले का खुलासा करने के लिए जिले में पुलिस टीम गठित कर दी गई है। बदमाश जल्द ही पकड़े जाएंगे।

Admin

Admin

Next Story