Top

मोदी के 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' अभियान पर पलीता, कलयुगी मां ही छोड़ गई मासूम को

By

Published on 16 Nov 2017 4:26 AM GMT

मोदी के बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान पर पलीता, कलयुगी मां ही छोड़ गई मासूम को
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बलरामपुर: देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक तरफ जहां "बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ" अभियान की अगुवाई करते नहीं थक रहे हैं। वहीं उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जिले में बेटी होने पर एक कलयुगी मां उसे अस्पताल में ही गंभीर हालत में छोड़कर फरार हो गई। यहां तक कलयुगी मां ने अस्पताल में भर्ती होने के दौरान जो नाम व पता लिखवाया था, वह भी जांच के दौरान फर्जी निकला। फिलहाल मुख्य चिकित्सा अधीक्षक की देख-रेख में बच्ची का इलाज किया जा रहा है और उसे एफआईएनसीयू में रखा गया है।

यह भी पढ़ें: ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ पोस्टर में अलगाववादी नेता की तस्वीर, होगी जांच

क्या है पूरा मामला

उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जिले में एक कलयुगी मां की अमानवीय कृत्य से ममता भी शर्मसार हो गई। बेटे की चाह रखने वाली गुंजन श्रीवास्तव बीते मंगलवार को जिला महिला चिकित्सालय में डिलीवरी के लिए भर्ती हुई थी। गुंजन ने अस्पताल में अपने पति का नाम मनोज कुमार निवासी जोधी पुरवा मथुरा बाजार बलरामपुर दर्ज कराया था।

डॉक्टरों की देख-रेख में जब गुंजन की डिलीवरी हो गई तो डॉक्टरों ने उसे बेटी होने की जानकारी दी। जानकारी होने के कुछ ही देर बाद डॉक्टर्स से बाथरुम जाने का बहाना बनाकर गुंजन अस्पताल से निकल गई और फिर लौटकर नहीं आई। जिसके बाद डॉक्टर भी हैरान और परेशान हो गए और आनन-फानन में मामले की सूचना मुख्य चिकित्सा अधीक्षक नीना वर्मा को दी गई।

यह भी पढ़ें: ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ के नाम पर राज्य भर में बड़ा फर्जीवाड़ा, सभी DM को अलर्ट

जानकारी होने के बाद सीएमएस नीना वर्मा ने गुंजन के लिखाए हुए पते पर जांच कराई तो महिला द्वारा लिखाया गया पता पूर्ण रुप से फर्जी पाया गया। वहां गुंजन नाम की ना तो कोई महिला रहती थी और ना ही उसके पति के रहने कोई कोई पुख्ता जानकारी हाथ लगी।

फिलहाल बच्चे की हालत गंभीर है और उसे एफआईएनसीयू में रखा गया है। डॉक्टरों की देखरेख में बच्चे का इलाज जारी है।

मामले पर डॉक्टर सुनील गुप्ता ने बताया कि बच्चे की स्थिति अभी ठीक ठाक है। उसका इलाज किया जा रहा है। कुछ लोग उसे गोद (अडॉप्ट) करने की भी बात कर रहे हैं। उनसे जिला प्रशासन से संपर्क करने की बात कही गई है। जल्दी बच्चे को अडॉप्ट करने वाले परिवार को सुपुर्द कर दिया जाएगा।

Next Story