Top

यूपी : सट्टे के 200 रुपए के लिए युवक की हत्या, जांच आरंभ

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 11 Nov 2018 3:33 PM GMT

यूपी : सट्टे के 200 रुपए के लिए युवक की हत्या, जांच आरंभ
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हरदोई : जिले के कस्बा सण्डीला में एक युवक की महज सट्टे के 200 रुपए के बंटवारे को लेकर हत्या कर दी गई। पुलिस ने मामले में मृतक के भाई की तहरीर पर तीन लोगों के विरुद्ध हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। घटना से सनसनी फैली है वहीं परिजनों में कोहराम मचा है।

सण्डीला कस्बे के हरदोई रोड पर रामतारा श्मशान के सामने मैदान में एक अज्ञात युवक का शव पड़ा मिला तो आसपास के लोगों में सनसनी फैल गई। मामले की सूचना मिली तो मौके पर भीड़ लग गई। सूचना पाकर मौके पर आए कोतवाल जगदीश यादव ने शव कताई मिल चौकी भेजा जहां तलाशी के दौरान मृतक के जेब से आधार कार्ड मिला जिससे उसकी पहचान रेहान पुत्र सज्जाद निवासी किसान टोला के रूप में हुई।

आधार कार्ड के आधार पर मामले की सूचना पुलिस ने परिजनों को दी। पुलिस की सूचना पर मौके पर आए परिजनों में हड़कम्प मच गया।परिजनों ने कस्बा निवासी अकबर उर्फ शत्रु नदीम व घनश्याम के बिरुद्ध तहरीर दी। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

परिजनों का कहना है कि रेहान कल शाम 6 बजे अकबर के साथ घर से निकला था लेकिन लौट कर नही आया। मृतक के सर पर वार करके हत्या की आशंका परिजनों ने जताई है। मामले में सीओ सण्डीला नागेश मिश्रा ने बताया कि सट्टे के 200 रुपये के बंटवारे को लेकर हत्या की गई है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story