Top

रंगरलियां मनाते पकड़ा गया लेखपाल, दिखाई दबंगई तो गाल लाल हो गए

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 27 Jan 2018 1:29 PM GMT

रंगरलियां मनाते पकड़ा गया लेखपाल, दिखाई दबंगई तो गाल लाल हो गए
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बिजनौर : नशे की हालत में रंगरलियां मना रहे लेखपाल और एक लड़की को पुलिस ने आपत्तिजनक दशा में पकड़ा। मौके पर लेखपाल ने पुलिस वालों से जब बदतमीजी की तो उसकी दबंगई वहीं उतार दी गई।

मामला बिजनौर के थाना कोतवाली शहर के रम्मू चौक का है। जहां शनिवार दोपहर एक घर मे चकबंदी विभाग में तैनात लेखपाल सौरभ मलिक एक लड़की के साथ रंगरलियां मना रहा था। इसकी भनक जैसे ही मोहल्ले वालों को लगी तो भीड़ जमा होने लगी। सूचना जब स्थानीय पुलिस को मिली तो वहां पहुंची पुलिस को कमरे से लेखपाल सौरभ एक लड़की के साथ आपत्तिजनक हालत में मिला। दोनों को हिरासत में ले लिया गया है।

ये भी देखें : ड्राइवर संग रंगरलियां मनाते पकड़ी गई महिला कांस्टेबल, पत्नी को पहले से था शक

सौरभ ने नशे में पुलिसवालों से दबंगई करने की कोशिश की। लेकिन उसकी एक भी न चली। उसने अपशब्द कहे तो पुलिसकर्मी ने उसको वहीँ दो तीन तमाचे भी जड़ दिए।

स्थानीय निवासीयों के मुताबिक लेखपाल सौरभ रूपा (काल्पनिक नाम) के साथ अक्सर यहां आया करता था। आज उसे रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया है।

बताया जा रहा है कि सौरभ बिजनौर के नजीबाबाद तहसील में चकबंदी विभाग में कार्यरत है और बागपत जिले का रहने वाला है। उधर प्रेमिका मेरठ की रहने वाली बताई जा रही। जो नोएडा में किसी प्राइवेट संस्था में काम करती है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story