×

Pearl Group Scam: 60 हजार करोड़ के घोटाले में सीबीआई ने की छापेमारी, 11 लोगों को किया गिरफ्तार

Pearl Group Scam: पर्ल ग्रुप ने लोक लुभावनी योजनाओं का झांसा देकर देशभर में 5 करोड़ लोगों से ठगी की थी। और लोगों को निवेश से संबंधित गलत जानकारी देकर करीब 60 हजार करोड़ रुपये इकट्ठा किए थे।

Network
Published on 23 Dec 2021 5:27 PM GMT
Pearl Group Scam: CBI raids in 60 thousand crore scam, 11 people arrested
X

पर्ल ग्रुप घोटाला: सीबीआई ने किया 11 लोगों को किया गिरफ्तार: photo - social media   

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

New Delhi: देश का बहुचर्चित पर्ल घोटाले (Pearl Group Scam) से सम्बंधित बड़ी खबर है जिसमें केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) (CBI) ने पर्ल ग्रुप के 60 हजार करोड़ रुपये निवेश घोटाला मामले में अलग-अलग राज्यों से 11 लोगों को गिरफ्तार किया है। इस बड़े घोटाले में कुछ कंपनी के कर्मचारी और कुछ बिजनेसमैन शामिल हैं।

इस ग्रुप ने लोक लुभावनी योजनाओं का झांसा देकर देशभर में 5 करोड़ लोगों से ठगी की थी। इस ग्रुप के मालिकों ने इस पैसे से विदेशों में अनेक संपत्तियां खरीदी जिनमें होटल भी शामिल थे और खूब पैसा बनाया।

सीबीआई (CBI) ने इन 11 लोगों को गिरफ्तार किया

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर 2016 में सीबीआई ने इस घोटाले की जांच शुरू की थी। इस मामले में इससे पहले चार लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है और सीबीआई ने आरोपपत्र भी दाखिल किया था। आगे की जांच में कई अन्य खुलासे होने के बाद सीबीआई ने इन 11 लोगों को गिरफ्तार किया है।

पर्ल ग्रुप के अधिकारी चंद्र भूषण ढिल्लो समेत कई लोग गिरफ्तार

केंद्रीय जांच ब्यूरो ने पर्ल ग्रुप के अधिकारी चंद्र भूषण ढिल्लो (Pearl Group executive Chandra Bhushan Dhillon), प्रेम सेठ, मनमोहन कमल महाजन, मोहनलाल शेजपाल और कंवलजीत सिंह तूर को गिरफ्तार किया है। इनके अलावा कारोबारी प्रवीण कुमार अग्रवाल, मनोज कुमार जैन, आकाश अग्रवाल, अनिल कुमार खेमका, सुभाष अग्रवाल और राजेश अग्रवाल को भी गिरफ्तार किया गया है। यह गिरफ्तारी आरोपियों के दिल्ली, चंडीगढ़, कोलकाता, भुवनेश्वर समेत अन्य ठिकानों से की गई है।

ऐसे हुआ था 60,000 करोड़ का घोटाला

इस घोटाले में पर्ल ग्रुप ने करीब पांच करोड़ लोगों को निवेश से संबंधित गलत जानकारी देकर करीब 60 हजार करोड़ रुपये इकट्ठा किए थे। इसके लिए सरकार से इजाजत नहीं ली गई थी।

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में मामला पहुंचने के बाद सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर सीबीआई ने जांच के बाद पर्ल ग्रुप की फ्लैगशिप कंपनी पीजीएफ लिमिटेड, पीएसीएल लिमिटेड पर एफआईआर दर्ज कर निदेशकों निर्मल सिंह भंगु, सुखदेव सिंह, सुब्रत भट्टाचार्य और गुरमीत सिंह को गिरफ्तार किया था।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story