Top

पेट्रोल पंप घटतौली मामला: सभी मुल्जिम गए जेल, चिप का मास्टर मांइड 8 दिनों की पुलिस कस्टडी में

मुल्जिम राजेंद्र ने बताया है कि उसने बड़ी संख्या में अन्य पेट्रोल पंपों पर भी घटतौली करने के लिए चिप लगाया है। जिनका नाम व पता उसे नहीं मालुम है। लेकिन वहां पहुंचने के रास्ते से वह भलीभांति परिचित है।

zafar

zafarBy zafar

Published on 29 April 2017 5:12 PM GMT

पेट्रोल पंप घटतौली मामला: सभी मुल्जिम गए जेल, चिप का मास्टर मांइड 8 दिनों की पुलिस कस्टडी में
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: एसीजेएम रितीश सचदेवा ने पेट्रोल पंपो पर चिप लगाने के आरोप में गिरफ्तार मुल्जिम राजेंद्र को आठ दिन के लिए पुलिस की कस्टडी में सौंपने का आदेश दिया है। उन्होंने यह आदेश इस मामले के विवेचक व थाना हसनगंज के एसआई एसके तिवारी की अर्जी पर दिया है।

कई जगह लगाए हैं चिप

अभियोजन अधिकारी राकेश कुमार मिश्र व विनोद कुमार पांडेय ने इस अर्जी पर बहस की। इनका कहना था कि मुल्जिम राजेंद्र ने बताया है कि उसने बड़ी संख्या में अन्य पेट्रोल पंपों पर भी घटतौली करने के लिए चिप लगाया है। जिनका नाम व पता उसे नहीं मालूम है। लेकिन वहां पहुंचने के रास्ते से वह भलीभांति परिचित है।

मुल्जिम ने यह भी बताया है कि उसने अलग अलग मशीनों में अलग अलग चिप लगाए हैं। कुछ चिप इतने छोटे हैं कि सामान्य आदमी उसे पहचान नहीं सकता। उनका कहना था कि राजेंद्र की मदद से ही उन पेट्रोल पंपो का पता ठिकाना मालूम किया जा सकता है। लिहाजा उसे 14 दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड में सौंपा जाए। पुलिस कस्टडी रिमांड की यह अवधि 30 अप्रैल की सुबह 9 बजे से शुरु होगी।

23 मुलजिम गए जेल

अदालत ने समस्त तथ्यों व परिस्थितियों के मद्देनजर मुल्जिम राजेंद्र को 8 दिन के लिए पुलिस हिरासत में सौंपने का आदेश दिया। अदालत ने इससे पूर्व घटतौली के इस मामले में गिरफ्तार सभी 23 मुल्जिमों को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया।

बीते शुक्रवार को राजधानी पुलिस ने इन सभी मुल्जिमों को थाना वजीरगंज, हसनगंज, चिनहट, गोमतीनगर व कैंट इलाके के पेट्रोल पंपो पर छापा मारकर गिरफ्तार किया था। मुल्जिमों के खिलाफ धोखाधड़ी के साथ ही बाट-माप व आवश्यक वस्तु अधिनियम की धाराओं में भी मुकदमा कायम किया गया है।

zafar

zafar

Next Story