Top

पूर्व DGP सुलखान सिंह का भाई शांति भंग करने के आरोप में गिरफ्तार, जमानत

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 28 May 2018 9:57 AM GMT

पूर्व DGP सुलखान सिंह का भाई शांति भंग करने के आरोप में गिरफ्तार, जमानत
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बांदा : उत्तर प्रदेश के पूर्व पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) सुलखान सिंह के छोटे भाई रजनीश सिंह को तिंदवारी पुलिस ने शांति भंग करने के आरोप में रविवार को गिरफ्तार कर लिया।

हालांकि, बाद में थाने से ही जमानत पर उन्हें रिहा कर दिया गया।

ये भी देखें : पंजाब विधानसभा उपचुनाव, शाहकोट में लगभग 45 फीसदी मतदान

थानाध्यक्ष तिंदवारी रामआसरे यादव ने सामवार को कहा कि पूर्व पुलिस महानिदेशक सुलखान सिंह का पूरा परिवार जौहरपुर गांव के पचासा डेरा मजरे में रहता है, रविवार को उनके सबसे छोटे सगे भाई रजनीश सिंह ने बेंदाघाट के देशी शराब ठेके में उधार पर शराब न देने पर सेल्समैन से झगड़ा किया।

ये भी देखें : उपचुनाव LIVE: भंडारा-गोंदिया में कई बूथों पर वोटिंग रद्द, बीजेपी पर आरोप

इलाके से गुजर रहे बेंदाघाट पुलिस चौकी के प्रभारी उपनिरीक्षक योंगेन्द्र पटेल उन्हें हिरासत में लेकर थाने आ गए, जहां उन्हें शांति भंग करने के लिए सीआरपीसी की धारा-151 के तहत गिरफ्तार कर लिया गया। बाद में परिजनों की जमानत पर थाने से ही रिहा कर दिया गया।

हालांकि, रजनीश सिंह का कहना है कि नकली शराब बेचे जाने की शिकायत पर ठेके गए थे, जहां से पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया और बाद में जमानत पर थाने से रिहा कर दिया है।'

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story