Top

हाथरस में चुनावी हिंसा: सपा-बसपा कार्यकर्ता भिड़े, फायरिंग में बसपा नेता की मौत, 2 घायल

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 8 Feb 2017 10:52 AM GMT

हाथरस में चुनावी हिंसा: सपा-बसपा कार्यकर्ता भिड़े, फायरिंग में बसपा नेता की मौत, 2 घायल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हाथरस: समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के कार्यकर्ता बुधवार को सादाबाद में थाना सहपऊ क्षेत्र के गांव मानिकपुर में प्रचार के दौरान आपस में भिड़ गए। दोनों ओर से जमकर फायरिंग हुई, जिसमें बसपा नेता पुष्पेंद्र की मौत हो गई है, जबकि एक सपा और एक बसपा के कार्यकर्ता बुरी तरह घायल हुए हैं। इलाज के लिए उन्हें अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है। बता दें कि मानिकपुर गांव, जहां पर यह घटना हुई है, वो जिला मुख्यालय से 35 किमी. दूर है।

सादाबाद विधानसभा से समाजवादी पार्टी (सपा) के देवेंद्र अग्रवाल और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) से पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय चुनाव मैदान में हैं। फायरिंग में मारे गए बसपा नेता पुष्पेंद्र बसपा सरकार में मंत्री रहे रामवीर उपाध्याय के करीबी थे। बता दें कि हाथरस में फेज-1 में 11 फरवरी को वोटिंग होनी है और उससे पहले चुनावी हिंसा होना यूपी के लिए अच्छा संकेत नहीं है।

बीएसपी जिलाध्यक्ष दिनेश देशमुख के मुताबिक, रामवीर उपाध्याय के बेेटे चिराग उपाध्याय प्रचार के लिए जा रहे थे। तभी समाजवादी पार्टी के कुछ गुड़ों ने उनकी गाड़ी को घेर लिया और बेवजह उनपर फायरिंग करना शुरू कर दिया। इसमें उनके एक साथी पुष्पेंद्र की मौत हो गई है। समाजवादी पार्टी की गुंडई इस विधानसभा क्षेत्र पर लगातार बढ़ती जा रही है। उन्हें लग रहा है कि गुंडागर्दी के दम पर वो यह चुनाव जीत लेंगे तो ऐसा नहीं होगा। जनता सपा की गुंडागर्दी का जवाब उन्हें चुनाव में देगी।

क्या कहना है सपा प्रत्याशी देवेंद्र अग्रवाल का ?

सपा प्रत्याशी और मौजूदा विधायक देवेंद्र अग्रवाल का कहना है कि पहले बसपा के कार्यकर्ताओं ने उनपर फायरिंग करना शुरू किया था। रामवीर उपाध्याय के बेटे चिराग उपाध्याय ने सपा के कार्यकर्ताओं को चुनाव प्रचार करने से रोका और कुछ के सिर फोड़ दिए। चिराग ने खुद सपा कार्यकर्ताओं पर गोली चलाई । कुछ दिन पहले मेरे बेटे को भी रास्ते में रोककर पीटा गया था। बसपा के कार्यकर्ता खुलेआम असलहा लेकर घूम रहे हैं। इसके बावजूद प्रशासन आंख मूंदकर बैठा हुआ है और कुछ नहीं कर रहा है।

क्या कहना है एसपी का ?

इस मामले में हाथरस के एसपी दिलीप कुमार ने बताया कि सपा और बसपा के कार्यकर्ताओं के बीच चुनाव प्रचार के दौरान कहासुनी हो गई थी। इसके बाद दोनों पक्षों में जमकर फायरिंग हुई, जिसमें एक बीएसपी लीडर पुष्पेंद्र की मौत हो गई है।

आगे की स्लाइड में देखिए, कुछ और फोटोज और वीडियो...

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story