Top

CMO की रिपोर्ट के बाद होगा एक्‍शन, प्रसव के दौरान निकाल ली थी महिला की किडनी

By

Published on 18 Aug 2016 7:34 AM GMT

CMO की रिपोर्ट के बाद होगा एक्‍शन, प्रसव के दौरान निकाल ली थी महिला की किडनी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बरेली: ऑपरेशन में प्रसव के दौरान महिला की किडनी निकालने के मामले में newstrack पर खबर चलने के बाद पुलिस महकमा हरकत में आया है। यूपी पुलिस ने newstrack की खबर पर एक्‍शन लिया है। आईजी जोन, डीआईजी और बरेली पुलिस को सख्‍त कार्रवाई के लिए कहा गया है। पुलिस के मुताबिक सीएमओ की रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

दो दिन पूर्व आॅपरेशन में प्रसव के दौरान महिला की किडनी निकाल ली गई थी। इसका खुलासा तब हुआ जब छुट्टी के बाद प्रसूता की तबियत खराब हुई और उसने अल्ट्रासाउंड कराया। शिकायत पर सीएमओं ने कमेटी गठित कर जांच के आदेश दिए थे।

यह भी पढ़ें... KGMU की महिला डॉक्‍टर से शादी का झांसा देकर सीनियर ने किया रेप





क्‍या था पूरा मामला

-बरेली में इज्जतनगर थानाक्षेत्र के पहाड़गंज गांव में 35 वर्षीय नारायणी देवी का घर है।

-नारायणी का पति पातीराम घर से बाहर रहकर मेहनत मजदूरी कर अपना घर चलाता है।

-मार्च में गर्भवती नारायणी को पास के ही गांव की आशा उसे प्रसव के लिए 'रोहित अग्निहोत्री हॉस्पिटल' में ले गई।

यह भी पढ़ें... MR के भरोसे हॉस्पिटल, डॉक्‍टर के कहने पर दे रहा था दवाई

-हॉस्पिटल पहुंचने पर डॉक्टर ने बच्चे की धड़कन न होने का डर देकर महिला के पति को ऑपरेशन से प्रसव कराने की बात कही।

-इसके लिए नारायणी का पति राजी हो गया।

-ढ़ाई से तीन घंटे की बेहोशी में ऑपरेशन से हुए प्रसव से नारायणी ने स्वस्थ बच्ची को जन्म दिया।

-15 दिन के बाद नारायणी की हॉस्पिटल से छुट्टी कर दी गई।

अल्ट्रासाउंड से हुआ था खुलासा

-घर पहुंचने के 8 दिन बाद नारायणी की जब दोबारा तबियत खराब हुई तो हॉस्पिटल के डॉक्टरों ने पेट में सेप्टिक फैलने की बात कहकर हाथ खड़े कर दिए।

-नारायणी के पति ने शहर के दूसरे डॉक्टर से राय ली तो अल्ट्रासाउन्ड में एक किडनी गायब होने की बात सामने आई।

-घबरायी पीड़िता ने तीन अलग अलग जगहों से अल्ट्रासाउन्ड कराया लेकिन नतीजा वही निकला।

- इस दौरान पीड़िता ने कई बार प्रसव कराने वाले डाक्टर से सम्पर्क करने की कोशिश की लेकिन उन्होंने मिलने से इंकार कर दिया।

-हारकर पीड़ित दंपत्ति ने इस पूरे प्रकरण की डीएम और सीएमओ से शिकायत की।

-सीएमओ ने पीड़िता की शिकायत पर जांच कमेटी गठित कर दी है।

-लेकिन अभी तक संबंधित डॉक्टरों के खिलाफ न तो केस दर्ज हुआ है और न ही अग्रिम मेडिकल परीक्षण कराया गया है।

Next Story