Top

बंदी धार्मिक ग्रंथ पढ़कर सुधारेंगे अपनी ज़िन्दगी, बरेली डीएम ने शुरू की नई पहल

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 31 Oct 2018 12:32 PM GMT

बंदी धार्मिक ग्रंथ पढ़कर सुधारेंगे अपनी ज़िन्दगी, बरेली डीएम ने शुरू की नई पहल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बरेली: उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में कैदियों की मानसिकता बदलने के उद्देश्य से डीएम वीरेंदर कुमार सिंह ने एक अनोखी पहल की शुरुआत की है। दरसल जिलाधिकारी वीरेंद्र कुमार सिंह ने गोरखपुर गीता प्रेस से संपर्क करके करीब चार हज़ार किताबों का ऑर्डर दिया है। जिसमें गीता, क़ुरान, बाइबिल, के साथ कई नामचीन लेखकों की किताबें शामिल हैं। इन किताबों को जिला जेल में बंटवाया जाएगा। जिससे कैदियों के जीवन में सकारात्‍मक बदलाव आ सके।

ये भी देखें:बरेली में हो सकता है बदांयू जैसा हादसा, एएसपी और एसीएम की जांच में हुआ खुलासा

काउंसिलिंग के बाद लिया निर्णय

जिलाधिकारी के आदेश पर प्रशासनिक अधिकारियों ने कॉउंसिलिंग करके यह निष्कर्ष निकाला था कि शिक्षा के अभाव में लोग गलत कार्य कर बैठते हैं मूल सुविधाओं और सुधारों में न्याय प्रक्रिया में तेजी लाने के साथ साथ देश में सर्व शिक्षा के अभियान को पुरजोर तरीके से लागू करने की जरूरत है। कारागारों में जो बंदी अशिक्षित है, उन्हें शिक्षित करने की आवश्यकता है और जो शिक्षित है उन्हें पुस्तकों से जोड़ने की।इसी सोच को ध्यान में रखते हुए, जिला अधिकारी वीरेंद्र कुमार सिंह द्वारा ज़िला कारागार में एक सुसज्जित पुस्तकालय की स्थापना करवाई जा रही है। जिसे अगले माह से ज़िला कारागार में शुरू कर दिया जायेगा इस पुस्तकालय में सामान्य ज्ञान, धार्मिक एवं नामी साहित्यकारों की लगभग 4000 पुस्तकों को संग्रहित किया जाना है। वहीं जानकार बताते हैं कि डीएम की पहल से कैदियों के जीवन में बदलाव आयेगा।

ये भी देखें:बीजेपी सांसद की पीएम को नसीहत- जल्‍द लाएं राम मंदिर निर्माण कानून, पार्टी ने झाड़ा पल्‍ला

sudhanshu

sudhanshu

Next Story