Top

जेबकतरे को रिहा कराने के लिए धरने पर बैठे BJP विधायक, अन्न भी त्यागा

By

Published on 21 Sep 2017 8:26 AM GMT

जेबकतरे को रिहा कराने के लिए धरने पर बैठे BJP विधायक, अन्न भी त्यागा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हरदोई: हरदोई के संडीला इलाके से बीजेपी विधायक राजकुमार अग्रवाल उर्फ़ राजिया अपनी ही सरकार में संडीला कोतवाली में धरने पर बैठ गए हैं। उन्होंने दारोगा पर धन उगाही और निर्दोष नागरिकों के उत्पीड़न का आरोप लगाया है। खबर है कि विधायक जी अपने किसी समर्थक को पुलिस की हिरासत से छुड़ाने के लिए थाने गए थे, लेकिन कोतवाल ने आरोपी को जेबकतरा बताते हुए उसे न छोड़ने की बात कही।

पुलिस के अनुसार आरोपी महेश बस में जेब काट रहा था और लोगों ने उसे रंगे हाथों पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया था, लेकिन विधायक जी उसे बेक़सूर बता रहे हैं और पुलिस पर जबरन दबाव डालकर उसे छोड़े जाने की मांग कर रहे हैं। बुधवार देर शाम से संडीला कोतवाली के बाहर भारी भीड़ जमा है, जो आधी रात हो जाने के बावजूद कम नहीं हुई है, हालांकि बीजेपी जिलाध्यक्ष श्रीकृष्ण शास्त्री भी मामले को सुलझाने का प्रयास कर रहे हैं। लेकिन विधायक ने कोतवाल को हटाए जाने और उनके विरुद्ध कार्रवाई नहीं होने तक अन्न जल त्यागकर वहीं बैठने का ऐलान कर दिया है।

क्या है विधायक का कहना

विधायक श्री अग्रवाल का आरोप है कि संडीला कोतवाल न तो किसी की बात सुनते और न ही फोन ही उठाते हैं। विधायक के कोतवाली के बाहर धरने पर बैठने से भीड़ जमा हो गई और विधायक ने कोतवाल पर कार्रवाई न होने तक अन्न जल त्याग तक धरने पर बैठे रहने का ऐलान कर दिया है।

अपने समर्थकों के साथ पुलिस प्रशासन पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाकर नारेबाजी करते कोतवाली के अंदर धरना दे रहे संडीला विधानसभा के भाजपा विधायक राजकुमार अग्रवाल हैं। सत्ताधारी दल के विधायक राजकुमार अग्रवाल का आरोप है कि संडीला कोतवाली भ्रष्टाचार का अड्डा बन चुकी है और कोतवाल उनकी सिफारिशों को तरजीह नहीं देते हैं, लगातार उपेक्षा से आहत होकर आज उन्होंने कोतवाली में आमरण अनशन चालू कर दिया है।

विधायक राजकुमार अग्रवाल की मांग है कि संडीला कोतवाल को यहां से हटाया जाए और उनके कार्यों की जांच कराई जाए। रात करीब 7 बजे से कोतवाली के अंदर ही सैकड़ों समर्थकों के साथ उनका धरना अभी भी चल रहा है, लेकिन कोई भी पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी या प्रशासनिक अधिकारी अभी मौके पर नहीं पहुंचे हैं फिलहाल पूरे मामले में सरकार और पुलिस दोनों की किरकिरी होती जरूर नजर आ रही है। मनाने पहुंचे भाजपा जिला अध्यक्ष भी बैरंग लौट गए।

Next Story