×

फिल्‍मी अंदाज में पड़ी डकैती, सीसीटीवी से पकड़ में आए बदमाश

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 22 Oct 2018 12:09 PM GMT

फिल्‍मी अंदाज में पड़ी डकैती, सीसीटीवी से पकड़ में आए बदमाश
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

शाहजहांपुर: यहां लुटेरों ने डकैती की घटना को एकदम फिल्मी स्टाईल मे अंजाम दिया। डकैती का षडयंत्र भी बिल्कुल फिल्मी स्टाईल वाला था। डकैती करने के बाद लुटेरों ने खुद अपना दिल्ली का ट्रेन का टिकट बनवाया और डकैती डालने के बाद फौरन ही दिल्ली फरार हो गये। इतना ही नहीं डकैती के वक्त लुटेरों मोबाईल का भी इस्तेमाल नहीं किया। लेकिन एक चूक ने लुटेरों को पुलिस के गिरफ्त में ला दिया। घटना से एक किलोमीटर दूर एक सीसीटीवी की मदद से घटना का खुलासा हो गया। पुलिस ने लुटेरों के पास लूटे गए 25 हजार रुपये और जेवर भी बरामद कर लिए है। पकङे गए लुटेरों को जेल भेज दिया गया है।

ये भी पढें: बाघ एक्‍सप्रेस हादसा: बिना ब्‍लॉक परमीशन के खिसकाई थी पटरी, ट्रैक पर ही छोड़ दिए थे पार्ट्स

गुप्‍ता बंधुओं ने डाली डकैती

पुलिस की गिरफ्त मे खङे लुटेरों के नाम अनिल गुप्ता और वैभव गुप्ता है। दोनो थाना सदर बाजार के रहने वाले है। एसपी एस चिनप्पा के मुताबिक थाना सदर बाजार के मोहल्ला बजरिया निवासी सुशील कुमार के घर बीते सात अक्तूबर को डकैती की घटना को अंजाम दिया गया था। डकैती के दौरान बदमाशों ने 55 हजार की नकदी और जेवरात ले गए थे। परिवार को बंधक बनाकर कमरे मे बंद कर दिया था। उसके बाद पुलिस ने घटना की जांच की लेकिन किसी भी तरह से घटना का खुलासा नहीं हो पा रहा था।

इसी बीच एसपी के आदेश पर घटना के आसपास सीसीटीवी देखे गए तो घटना से एक किलोमीटर दूर एक सीसीटीवी लगा मिला। जिसके बाद उस सीसीटीवी को खंगाला गया तो उसमें कई संदिग्ध युवक दिखाई दिए। सीसीटीवी की मदद से डकैतों की पहचान अनिल गुप्ता और वैभव गुप्ता के रूप में हुई। उसके बाद पुलिस ने दोनों को हिरासत मे लेकर सख्ती से पूछताछ की तो चौंकाने वाले खुलासे सामने आए।

ये भी पढें: लापरवाही: BJP विधायक के क्षेत्र में मोबाइल की टॉर्च जलाकर हो रहा नसबंदी कैंप में आपरेशन

मकान बेंचने की हुई थी जानकारी

बदमाशों ने पुलिस को बताया कि पीङित सुशील के घर के पास रहने वाले विजय ने मुखबिरी की थी। जिसमें बताया गया था कि सुशील ने 35 लाख रुपये का मकान बेंचा है। उसके घर बहुत पैसा है। इसी मुखबिरी के आधार पर बदमाशों ने सुशील के घर डकैती की घटना को अंजाम दिया था।

एसपी एस चिनप्पा का कहना है कि बदमाश बेहद चालाक हैं। अनिल गुप्ता नाम का बदमाश चार साल से लूट की घटनाओं में जेल मे बंद था। उसके उपर 13 मुकदमे चल रहे हैं। घटना के पांच दिन पहले ही अनिल जेल से छूटकर आया था। जेल से बाहर आते ही अनिल ने फिर डकैती की घटना को पूरे षडयंत्र के साथ अंजाम दे डाला।

ये भी पढें: घर से 2000 किलोमीटर दूर घूमने आई थी बच्‍ची, दर्दनाक हादसे में गंवाई जान

खास बात ये है कि अनिल ने जिस दिन डकैती की घटना को अंजाम दिया। उस दिन के पहले ही बदमाश अनिल ने दिल्ली के टिकट बनवा लिए थे। घटना को अंजाम देने के बाद फौरन ही अनिल दिल्ली के लिए ट्रेन से फरार हो गया। ताकि पूछताछ में ये साबित हो कि घटना के वक्त वह दिल्ली में था। इतना ही नहीं, चालाक बदमाशों ने घटना के वक्त एक भी मोबाइल का इस्तेमाल नहीं किया था। लेकिन वह सब पकङ में आए सीसीटीवी की मदद से। फिलहाल पकङे गए दो बदमाशों को जेल भेजा गया है। पांच बदमाशों की तलाश जारी है।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story