Top

सपा नेता अशोक प्रधान पर रेप की एफआईआर, कई संगीन धाराओं में लगे हैं आरोप

पीड़िता का आरोप है कि एक दिन रात में अचानक उसके घर पहुंचे अशोक प्रधान ने उसकी सास और ननद की रजामंदी से दुष्कर्म किया। विरोध करने पर प्रधान ने धमकी दी कि किसी बाहरी व्यक्ति को बताया तो परिजनों की हत्या करवा दूंगा।

zafar

zafarBy zafar

Published on 26 Sep 2016 12:53 PM GMT

सपा नेता अशोक प्रधान पर रेप की एफआईआर, कई संगीन धाराओं में लगे हैं आरोप
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा: समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता अशोक प्रधान के खिलाफ एक महिला ने रेप, अननैचुरल सेक्स और हत्या के प्रयास समेत कई संगीन धाराओं में एफआईआर दर्ज कराई है। अशोक प्रधान 2 वर्ष पहले ही भारतीय जनता पार्टी छोड़ कर समाजवादी पार्टी में शामिल हुए थे। वह भाजपा के टिकट पर 4 बार सांसद और केंद्र में राज्य मंत्री रह चुके हैं। पीड़िता का आरोप है कि उसके ससुर और अशोक प्रधान ने 11 महीनों तक उसका यौन उत्पीड़न किया।

रेप का आरोप

-महिला का मुकदमा दिल्ली के मॉडल टाउन थाने में दर्ज हुआ, जहां से ट्रांसफर होकर नोएडा सेक्टर-24 थाने में आया है।

-महिला ने यह भी आरोप लगाया है कि नोएडा पुलिस ने दबाव में उसका मुकदमा दर्ज नहीं किया।

-महिला के अनुसार उसकी शादी सेक्टर-33 के एक कारोबारी और सामाजिक संगठनों से जुड़े जिंदल परिवार में हुई है।

-पीड़िता के अनुसार यह शादी उसके पिता के दोस्त और पूर्व केंद्रीय मंत्री अशोक प्रधान ने करवाई थी।

ससुराल की मर्जी से रेप

-पीड़िता का आरोप है कि एक दिन रात में अचानक उसके घर पहुंचे अशोक प्रधान ने उसकी सास और ननद की रजामंदी से दुष्कर्म किया।

-विरोध करने पर प्रधान ने धमकी दी कि किसी बाहरी व्यक्ति को बताया तो परिजनों की हत्या करवा दूंगा।

-इसके बाद एक दिन ससुर पंकज जिंदल ने भी बलात्कार किया। महिला के अनुसार 11 महीने तक यह शोषण जारी रहा।

-पीड़िता का आरोप है कि अशोक प्रधान से उसकी सास व अन्य लोगों के अवैध संबंध हैं और वह बेधड़क घर में आता जाता है।

-प्रधान और अन्य लोगों पर धारा 376, 377, 307, 354, 323, 325, 326, 328, 498ए, 406, 109, 506 के तहत मामला दर्ज हुआ है।

-प्रधान के अलावा पति आशीष जिंदल, ससुर पंकज जिंदल, सास सविता जिंदल, अंकित जिंदल व प्रताप मेहता के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

आरोपों से इनकार

-समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और भाजपा की पूर्व केंद्र सरकार में टेलीकॉम राज्यमंत्री रहे अशोक प्रधान ने आरोपों को बिल्कुल गलत बताया है।

-प्रधान ने कहा कि महिला का अपने ससुराल से विवाद चल रहा है। 11 माह से उनकी बहू अपने मायके में है और अचानक आरोप लगा दिए गए हैं।

-आरोपों के घिरे कारोबारी जिंदल परिवार ने भी कहा कि बहू शादी के 11 माह बाद ही घर छोड़ कर अपने मायके चली गई। उसके बाद से लगाातर फोन पर पैसों की डिमांड करने लगी थी।

-तलाक देने के बदले वह आठ करोड़ रूपये की डिमांड कर रही थी, जो हमने मना कर दिया।

-इसके बाद शुक्रवार को साढ़े तीन करोड़ रूपये की डिमांड आई थी, जिसके बाद फर्जी मुकदमा लिखाया गया है।

-परिवार ने कहा कि फोन की बातचीत का पूरा रिकॉर्ड है। जांच में सब कुछ साफ हो जायेगा।

zafar

zafar

Next Story